जाने भारत में कोरोना वैक्सीन कब लगनी होगी शुरू

नई दिल्‍ली: चीन से फैले कोरोना वायरस ने दुनिया के साथ साथ भारत में भी तबाही मचा दी, हजारों जाने चली गयीं लेकिन अभी तक किसी को कोरोना वैक्सीन नही मिल सकी है। लेकिन ब्रिटेन और रूस द्वारा कोरोना टीकाकरण के ऐलान के बाद भारत में भी वैक्‍सीन को लेकर आस जगी है। दिल्‍ली एम्‍स के निदेशक डॉक्‍टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि अब हमारे पास टीके हैं, जो अंतिम परीक्षण चरण में हैं। उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक या अगले महीने की शुरुआत में हमें भारतीय नियामक अधिकारियों से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण प्राप्त करना चाहिए ताकि जनता को वैक्सीन देना शुरू किया जा सके।

डॉक्‍टर रणदीप गुलेरिया ने कहा, ‘वहां डेटा उपलब्ध है कि टीके बहुत सुरक्षित हैं। टीके की सुरक्षा और प्रभावकारिता से बिल्कुल भी समझौता नहीं किया गया है। 70,000-80,000 स्वयंसेवकों को टीका दिया गया है, जिनमें अभी तक कोई महत्वपूर्ण गंभीर प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा गया। डेटा से पता चलता है कि अल्पावधि में टीका सुरक्षित है।’

चेन्नई परीक्षण के दौरान टीके के प्रभाव पर डॉक्‍टर गुल‍ेरिया ने कहा, ‘चेन्नई परीक्षण का मामला वैक्सीन से संबंधित होने के बजाय एक आकस्मिक खोज है। जब हम बड़ी संख्या में लोगों को टीका लगाते हैं, तो उनमें से कुछ को कोई न कोई बीमारी हो सकती है, जो टीके से संबंधित नहीं हो सकती।’

Gyan Dairy

उन्‍होंने कहा, ‘अब, हमने वर्तमान तरंग में गिरावट देखी है और मुझे आशा है कि यह जारी रहेग,। यदि हम एक अच्छा #COVID19 उपयुक्त व्यवहार करने में सक्षम हैं। यदि हम अगले 3 महीनों के लिए इस व्यवहार का प्रबंधन करते हैं, तो हम एक महामारी से संबंधित बड़े परिवर्तन के करीब होंगे।’

डॉक्‍टर गुलेरिया ने कहा, ‘कोल्ड चेन बनाने, उपयुक्त स्टोरहाउस उपलब्ध कराने, रणनीति विकसित करने, टीकाकरण और सीरिंज की उपलब्धता के संदर्भ में केंद्र और राज्य स्तर पर टीकाकरण वितरण योजना के लिए युद्ध स्तर पर काम चल रहा है।’ उन्‍होंने कहा, ‘शुरुआत में टीका सभी को देने के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होगा। हमें यह देखने के लिए एक प्राथमिकता सूची की आवश्यकता है कि हम उन लोगों का टीकाकरण करें, जिनके कोविड के कारण मरने की संभावना अधिक है। बुजुर्गों, कॉमरेडिटीज और फ्रंट लाइन वर्कर्स वाले लोगों को पहले टीका लगाया जाना चाहिए।’

Share