जाने क्यों बढ़ता जा रहा कोरोना का कहर, घर से निकलना है मुश्किल

नई दिल्लीः भारत में कोरोना का कहर एकबार फिर बढ़ता चला जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार अभी थमती नजर नहीं आ रही है, जिसकी वजह से अब तक करीब 1.39 लाख लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। कोरोना से संक्रमितों की संख्या भी बढ़कर करीब 95 लाख को पार कर गई है, जबकि 90 लाख लोग स्वस्थ होकर घर आ गए हैं। देश व राज्यों की सरकारें कोरोना पर काबू पाने के लिए तमाम तरह के कदम उठा रही हैं, जिससे लोगों की जान बचाई जा सके हैं। इस बीच एक कोरोना को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। प्रदूषण के मामले में यूपी का मुरादाबाद देशभर में पांचवें स्थान पर है।

कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने तमाम तैयारियां कर ली हैं लेकिन, अस्थमा, हृदय और फेफड़ों की बीमारी से पीड़ित मरीजों को सुबह सूरज निकलने से पहले घर से न निकलने की सलाह दी जा रही है। फिजिशियन डॉ. प्रवीण शाह ने बताया कि मुरादाबाद के प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में लगातार बिगड़ रही हवा चिंता बढ़ा रही है। कोरोना काल में इस प्रकार से बढ़ता प्रदूषण लोगों के लिए जानलेवा साबित हो सकता है।

एक ओर कोरोना के फिर से सक्रिय होने का डर सता रहा है तो दूसरी ओर बढ़ता प्रदूषण लोगों को बीमार बनाकर उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को गिराएगा। ऐसे में कोरोना और घातक साबित होगा। इसलिए गुनगुने पानी का सेवन लगातार करते रहे। बीमारियों से पीड़ित लोग सूरज निकलने के बाद ही टहलने निकलें। अस्थमा के मरीजों को भी अपनी सेहत का खास ख्याल रखना है। लगातार अपने चिकित्सक के संपर्क में रहें।

ठंड बढ़ने के साथ नियमित दवा में बदलाव किया जाता है। इस वजह से अपनी दवा पर भी डॉक्टर से चर्चा जरूर कर लें। खानपान का भी ध्यान रखना है। फ्रिज में रखा हुआ कोई सामान इस्तेमाल न करें। सांस लेने में परेशानी होने पर डॉक्टर से संपर्क करें। धुंध और कोहरे में घर से निकलने पर परहेज करें। इससे आपको परेशानी हो सकती है।

जाने क्यों बढ़ता जा रहा कोरोना का कहर, घर से निकलना है मुश्किल

Gyan Dairy

नई दिल्लीः भारत में कोरोना का कहर एकबार फिर बढ़ता चला जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार अभी थमती नजर नहीं आ रही है, जिसकी वजह से अब तक करीब 1.39 लाख लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। कोरोना से संक्रमितों की संख्या भी बढ़कर करीब 95 लाख को पार कर गई है, जबकि 90 लाख लोग स्वस्थ होकर घर आ गए हैं। देश व राज्यों की सरकारें कोरोना पर काबू पाने के लिए तमाम तरह के कदम उठा रही हैं, जिससे लोगों की जान बचाई जा सके हैं। इस बीच एक कोरोना को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। प्रदूषण के मामले में यूपी का मुरादाबाद देशभर में पांचवें स्थान पर है।

कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने तमाम तैयारियां कर ली हैं लेकिन, अस्थमा, हृदय और फेफड़ों की बीमारी से पीड़ित मरीजों को सुबह सूरज निकलने से पहले घर से न निकलने की सलाह दी जा रही है। फिजिशियन डॉ. प्रवीण शाह ने बताया कि मुरादाबाद के प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में लगातार बिगड़ रही हवा चिंता बढ़ा रही है। कोरोना काल में इस प्रकार से बढ़ता प्रदूषण लोगों के लिए जानलेवा साबित हो सकता है।

एक ओर कोरोना के फिर से सक्रिय होने का डर सता रहा है तो दूसरी ओर बढ़ता प्रदूषण लोगों को बीमार बनाकर उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को गिराएगा। ऐसे में कोरोना और घातक साबित होगा। इसलिए गुनगुने पानी का सेवन लगातार करते रहे। बीमारियों से पीड़ित लोग सूरज निकलने के बाद ही टहलने निकलें। अस्थमा के मरीजों को भी अपनी सेहत का खास ख्याल रखना है। लगातार अपने चिकित्सक के संपर्क में रहें।

ठंड बढ़ने के साथ नियमित दवा में बदलाव किया जाता है। इस वजह से अपनी दवा पर भी डॉक्टर से चर्चा जरूर कर लें। खानपान का भी ध्यान रखना है। फ्रिज में रखा हुआ कोई सामान इस्तेमाल न करें। सांस लेने में परेशानी होने पर डॉक्टर से संपर्क करें। धुंध और कोहरे में घर से निकलने पर परहेज करें। इससे आपको परेशानी हो सकती है।

Share