लंदन से आज अपने घर राजस्थान लौटेंगे भगवान भोलेनाथ, 1998 में चोर उठा ले गया था मूर्ति

नई दिल्ली। ब्रिटेन के लंदन से राजस्थान लाई जा रही एक मूर्ति चर्चा का विषय बन गई है। दरअसल इस मूर्ति को साल 1998 में चोरों ने चित्तौड़गढ़ के घाटेश्वर मंदिर से चुरा ली थी। कई बार बिकने के बाद यह मूर्ति लंदन पहुंच गई। अब काफी प्रयासों के बाद इसे वापस लाया जा रहा है। यहां मूर्ति को आज भारतीय पुरात्व विभाग (एएसआई) को सौंप दिया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक चित्तौड़गढ़ में बरोली स्थित घाटेश्वर मंदिर से फरवरी 1998 में नौंवी सदी की नटराज की इस मूर्ति चोरी हो गई थी। इसके बाद य​ह मूर्ति लंदन के शख्स ने खरीद ली थी। पत्थर की यह दुर्लभ नटराज मूर्ति करीब चार फीट लंबी है। साल 2003 में यह जानकारी मिली थी कि इस मूर्ति को ब्रिटेन में बेच दिया गया है।

Gyan Dairy

लंदन में जब प्रशासन को यह सूचना मिली तो उन्होंने इसे खोजना शुरू किया। लंदन में जिसके पास यह मूर्ति थी, उससे संपर्क किया गया और वह इस मूर्ति को लौटाने के लिए राजी हो गया। वर्ष 2005 में लंदन स्थित भारतीय दूतावास में यह मूर्ति सौंप दी गई।  इसके बाद अगस्त 2007 में एएसआई के विशेषज्ञों ने इंडिया हाउस का दौरा किया और इस मूर्ति की जांच की। उन्होंने पुष्टि की कि यह वही मूर्ति है, जिसे घाटेश्वर मंदिर से चुराया गया था।

Share