यूएई में मौत की सजा पाए भारतीय नागरिक को लुलु ग्रुप के मुखिया ने कराया रिहा,चुकाई एक करोड़ की रकम

अबू धाबी। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की जेल में बंद हत्या के दोषी भारतीय नागरिक को एनआरआई व्यवसाई ने एक करोड़ मुआवजा देकर रिहा कराया है। मूलरूप से केरल निवासी 45 वर्षीय बेक्स कृष्णन ने सितंबर 2012 में कार चलाते हुए बच्चों को टक्कर मार दी थी। बेक्स कृष्णन को एक सूडानी बच्चे की हत्या का दोषी माना गया और संयुक्त अरब अमीरात के कानून के मुताबिक उन्हें मौत की सजा सुनाई गई।

बेक्स कृष्णन के परिजन और दोस्त लगातार उसकी रिहाई की कोशिसें कर रहे थे। हालांकि हादसे के बाद बच्चे के मां बाप अपने देश सूडान चले गए थे। इस कारण कृष्णन के परिजन उन्हें माफी देने के लिए राजी नहीं कर पाए। थक हारकर कृष्णन के परिजनों ने लुलु ग्रुप के मुखिया यूसुफ अली से संपर्क किया। यूसुफ अली ने मामले के सभी पक्षकारों के बात की। लुलु समूह ने बयान जारी करके बताया कि पीड़ित का परिवार जनवरी 2021 में कृष्णन को माफी देने के लिए अंतत: तैयार हो गया। इसके बाद यूसुफ अली ने कृष्णन की रिहाई के लिए अदालत में पांच लाख दिरहम (करीब एक करोड़ रुपए) मुआवजा दिया।

Gyan Dairy

जेल से रिहा होने के बाद कृष्णन ने कहा गया कि यह मेरे लिए पुनर्जन्म है, क्योंकि मैंने बाहर की दुनिया देखने और आजाद जीवन जीने की सभी उम्मीदें छोड़ दी थीं। अब मेरी एकमात्र इच्छा अपने परिवार से मिलने जाने से पहले यूसुफ अली से मुलाकात करने की है। यूसुफ अली ने कृष्णन की रिहाई के लिए ईश्वर और संयुक्त अरब अमीरात के शासकों की उदारता को धन्यवाद दिया।

Share