मध्यप्रदेश सरकार के मंत्री तुलसीराम सिलावट ने दिया इस्तीफा, कही यह बातें…

इंदौर। मध्प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि मैं अपनी मर्जी से इस्तीफा दे रहा हूं। बता दें कि, सिलावट विधानसभा की सदस्यता के बगैर सीएम शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल में छह महीने पहले शामिल हुए थे। उन्होंन ने संवैधानिक प्रावधानों का हवाला देते हुए मंत्री पद से इस्तीफा दिया है।

सिलावट ने कहा कि मुझे राज्य के मंत्री पद की शपथ लिए आज (बुधवार) छह महीने हो रहे हैं। मैंने संवैधानिक प्रावधानों के तहत कल (मंगलवार) ही मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा, मेरे लिए मंत्री पद महत्वपूर्ण नहीं है। मेरे लिए जनता की सेवा और राज्य की प्रगति महत्वपूर्ण है। मैं बिना मंत्री पद के भी जनता की सेवा कर सकता हूं।

सिलावट ने कहा कि मैं (कमलनाथ की अगुवाई वाली) पिछली सरकार में भी मंत्री पद और विधानसभा की सदस्यता छोड़ चुका हूं। भाजपा सूत्रों के मुताबिक सिलावट ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मंगलवार को भेजे त्यागपत्र में कहा कि मैं भारत के संविधान के अनुच्छेद 164 (4) में वर्णित प्रावधान के परिप्रेक्ष्य में आज दिनांक 20 अक्टूबर को मध्यप्रदेश शासन के मंत्री पद से स्वेच्छा से त्यागपत्र सौंप रहा हूं।

Gyan Dairy

पत्र में आगे कहा गया कि कृपया मेरा त्यागपत्र आज दिनांक 20 अक्टूबर को अपरान्ह से स्वीकार करने का कष्ट करें। मध्यप्रदेश में होने वाले 28 सीटों के उपचुनाव में भाजपा ने सिलावट को इंदौर जिले की सांवेर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है। उनके सामने कांग्रेस के प्रेमचंद गुड्डू हैं। राज्य में तीन नवंबर को उपचुनाव होने हैं और 10 नवंबर को नतीजे सामने आएंगे।

 

Share