महाराष्ट्र: फिर दिखा ‘पवार’ का ‘पावर’, अनिल देशमुख के बचाव में सुप्रीम कोर्ट पहुंची उद्धव सरकार

नई दिल्ली। महाराष्ट्र की विकास अघाड़ी सरकार का नेतृत्व भले ही उद्धव ठाकरे कर रहे हों लेकिन सरकार की असली पावर एनसीपी चीफ शरद पवार के पास ही है। एनसीपी नेता अनिल देशमुख ने गृह मंत्री के पद से इस्तीफा तो दे दिया है लेकिन मजबूरी में ही सही लेकिन उद्धव सरकार हाईकोर्ट के सीबीआई जांच के फैसले के विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है।

बॉम्बे हाई कोर्ट ने सीबीआई को अनिल देशमुख के खिलाफ प्राथमिक जांच करने का आदेश दिया था। इसी फैसले के बाद अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। हालांकि हाईकोर्ट के इस आदेश के खिलाफ मंगलवार को उद्धव सरकार सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। बता दें कि मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह की ओर से अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपये की वसूली कराने के आरोप में उच्च न्यायालय ने यह फैसला दिया था।

Gyan Dairy

हाई कोर्ट के इस फैसले के बाद गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। सीएम उद्धव ठाकरे को भेजे अपने इस्तीफे में अनिल देशमुख ने साफ कहा था कि उन पर लगे यह आरोप गलत हैं, लेकिन अदालत के फैसले के बाद वह नैतिक आधार पर पद से इस्तीफा दे रहे हैं।

Share