पुलवामा में शहीद हुए मेजर की पत्नी बनी सेना में लेफ्टीनेंट, ऐसे निभाया पति को दिया वादा

देहरादून। पुलवामा आतंकी हमले में शहीद होने वाले मेजर विभूति ढौंढियाल की पत्नी निकिता ने आज यानी 29 मई को आधिकारिक रूप से भारतीय सेना में शामिल हो गई हैं। बता दें​ कि​ पुलवामा हमले में शहीद हुए मेजर विभूति ढौंढियाल की पत्नी निकिता ढौंढियाल लेफ्टिनेंट के रूप में भारतीय सेना में शामिल हो गईं हैं। सेना की ट्रेनिंग पूरी होने के बाद पीओपी में उन्होंने सेना की वर्दी पहनी।

मूलरूप से देहरादून निवासी मेजर विभूति ढौंढियाल 18 फरवरी 2019 में जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। उनके शहीद होने के बाद उनकी पत्नी निकिता ने पति के सपने को पूरा करने के लिए सेना में जाने का मन बनाया। निकिता ने दिसंबर 2019 में इलाहाबाद में वूमेन एंट्री स्कीम की परीक्षा दी थी। जिसमें वह पास हो गई थीं।

निकिता ने बताया कि ढाई साल पहले 18 फरवरी का दिन। शहीद मेजर विभूति ढौंडियाल की पत्नी देहरादून से दिल्ली के लिए ट्रेन से रवाना हुईं। वह दिल्ली में नौकरी करती थीं और सप्ताह अंत में अकसर देहरादून अपने ससुराल आती रहती थीं। ट्रेन मुजफ्फरनगर ही पहुंची थी कि आर्मी हेडक्वार्टर से उन्हें फोन आया। फोन सुनकर मानों उनके होश ही उड़ गए। पति के पुलवामा में शहीद होने की सूचना मिलते ही उन पर दुखों का पहाड़ टूट गया। हरिद्वार के खड़खड़ी श्मशान घाट ले जाने से पहले पत्नी निकिता ने भीड़ से हटकर अपने पति को फ्लाइंग दी और कहा- ‘आई लव यू विभूति ’ और ‘मैं भी आपके तरह ही आर्मी ज्वाइन करूंगी यह मेरा वायदा है’।

Gyan Dairy

इसके बाद से निकिता का सेना में अफसर बनने का सफर शुरू हो गया। कड़ी मेहनत और लगन के साथ उन्होंने पिछले साल इलाहाबाद में वूमेन एंट्री स्कीम की परीक्षा पास की। उसके बाद चेन्नई स्थित ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी से प्रशिक्षण लेने के बाद वह शनिवार को लेफ्टिनेंट बन गईं। लेफ्टिनेंट निकिता की पहली पोस्टिंग जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में हुई है।

बता दें कि तीन बहनों में सबसे छोटे 34 साल के मेजर विभूति की शादी पिछले साल ही 19 अप्रैल को हुई थी। पत्नी निकिता कौल ढौंडियाल दिल्ली में बहुराष्ट्रीय कंपनी में नौकरी करती हैं। पिता ओपी ढौंडियाल का निधन 2015 में हो चुका है। इसके बाद से मां सरोज ढौंडियाल बीमार रहने लगी हैं। दो बहनों की शादी हो चुकी है। तीसरी बहन की शादी नहीं हुई है। वह दून इंटरनेशनल स्कूल में शिक्षिका हैं।

Share