माल्या नही पर बैंकों का ये बड़ा डिफाल्टर आया CBI के हाथ, 2,500 करोड़ का कर्ज

सीबीआई ने वरुण इंडस्ट्रीज के को-प्रमोटर कैलाश अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया है। कैलाश अग्रवाल पर बैंकों का कर्ज न चुकाने का आरोप है. बैंक अग्रवाल को विल्फुल डिफाल्टर घोषित कर चुके हैं. उनपर बैंकों का तकरीबन 2500 करोड़ का कर्ज है.

वरुण इंडस्ट्रीज पर फर्जी दस्तावेजों के जरिए बैंकों से 1798 करोड़ रुपए लोन उठाने का आरोप है भी. वरुण इंडस्ट्रीज पर जिन बैंकोंका कर्ज है उनमे इंडियन बैंक,यूको बैंक, सेंट्रल बैंक, ऑफ इंडिया, सिंडिकेट बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ोदा, आईडीबीअाई, इलाहबाद बैंक यूनाइ. बैंक ऑफ इंडिया शामिल है

Gyan Dairy

देश के टॉप-10 डिफाल्टर में अग्रवाल का नाम शामिल है. रिपोर्ट के अनुसार वरुण इंडस्ट्रीज और इसकी सहयोगी कंपनी वरुण जूल्स पर 10 सरकारी बैंकों का 1,242 करोड़ रुपये का कर्ज है. इसके अतिरिक्त अग्रवाल पर प्राइवेट बैंकों और फाइनैंस कंपनियों का भी लोन है.

Share