‘जय श्रीराम’ के नारों से चिढ़ी ममता बनर्जी, कहा- मुझे बंदूक दिखाई तो बंदूक का संदूक दिखा दूंगी

कोलकाता। नेताजी सुभाषचन्द्र बोस के जन्मदिन पर 23 जनवरी को पराक्रम दिवस के मौके पर विक्टोरिया मेमोरियल में पीएम नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में जय श्रीराम के नारों के बीच भाषण देने से इनकार करने वालीं सीएम ममता बनर्जी ने इसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस और पश्चिम बंगाल का अपमान बताया है। ममता बनर्जी ने कहा है कि उन्हें पीएम नरेंद्र मोदी के सामने उन्हें चिढ़ाया गया। ममता बनर्जी ने कहा कि यदि उन्हें बंदूक दिखाई गई तो वह बंदूक का संदूक दिखा सकती हैं। हालांकि वह राजनीति में विश्वास करती हैं बंदूक में नहीं।

ममता बनर्जी ने कहा कि विक्टोरिया मेमोरियल कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में मुझे तानों और अपमान का सामना करना पड़ा। भाजपा ने पहले भी पश्चिम बंगाल के प्रतिष्ठित लोगों का अपमान किया है और अब भी ऐसा कर रही है। सीएम ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि भाजपा का नाम भारत जलाओ पार्टी रखा जाना चाहिए।

Gyan Dairy

ममता बनर्जी ने कहा कि क्या आप किसी को अपने घर बुलाकर उसका अपमान करेंगे। यह बंगाल या हमारे देश की संस्कृति नहीं है। मुझे कोई दिक्कत नहीं होती यदि नारे नेताजी के सम्मान में लगाए गए होते। मुझे चिढ़ाने के लिए उन्होंने ऐसे नारे लगाए। इन नारों का कार्यक्रम से कोई संबंध नहीं था। मेरा देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सामने अपमान किया गया। बता दें कि ममता बनर्जी ने शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 125वें जन्मदिवस के कार्यक्रम में जय श्रीराम के नारे लगाए जाने के बाद भाषण देने से इनकार कर दिया था।

Share