मन की बातः मोदी ने परीक्षा के लिए छात्रों को दिया मंत्र- स्माइल मोर, स्कोर मोर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम का प्रसारण तय तारीख यानी 29 जनवरी को ही होगा। चुनाव आयोग ने इसकी मंजूरी दे दी है। चुनाव आयोग का कहना है कि उन्हें इस कार्यक्रम के प्रसारण पर कोई आपत्ति नहीं है। केंद्र सरकार ने इसके लिए आयोग से मंजूरी मांगी थी। यह इजाजत पांच राज्यों- गोवा, यूपी, उत्तराखंड, पंजाब और मणिपुर में जारी आचार संहिता को देखते हुए मांगी गई थी।

जानिए पीएम की ‘मन की बात’ के मुख्‍य अंश…

  1. अधिकार और कर्तव्य की दो पटरी पर ही, भारत के लोकतंत्र की गाड़ी तेज़ गति से आगे बढ़ सकती है.
  2. युवा सोशल मीडिया पर वीर सैनिकों, शहीदों के पराक्रम को लिखें.
  3. शहीदों को सम्‍मान दिया गया है.
  4. मैं शहीद हुए जवानों को नमन करता हूं.
  5. आज मैं बच्‍चों से बात करने आया हूं.
  6. हिमस्‍खलन में जवानों का खोना दुखद.
  7. परीक्षा में परेशानी का वातावरण.
  8. बच्‍चों ने अपनी परेशानियों को शेयर की हैं. इन परेशानियों को शेयर कर रहा हूं.
  9. युवाओं से विस्‍तार से बात करूंगा.
  10. परीक्षा अपने आप में, एक खुशी का अवसर होना चाहिए. परीक्षा एक उत्सव है, परीक्षा को ऐसे लीजिए जैसे मानों त्योहार है.
  11. परीक्षा में उत्‍सव का माहौल बने. उत्‍सव से दबाव कम हो जाएगा. माता-पिता बच्‍चों की मदद करें.
  12. ज्‍यादातर के लिए परीक्षा परेशानी हैं.
  13. स्‍माइल मोर, स्‍कोर मोर. जितने ज्‍यादा खुश रहेंगे, उतने ज्‍यादा आपको अंक प्राप्‍त होंगे.
  14. रिलैक्‍स रहेंगे तो चीजें याद रहेंगी. तनाव में ज्ञान नीचे दब जाता है.
  15. तनाव में सारे दरवाजे बंद होते हैं. तनामुक्‍त रहने से परेशानी कम होती हैं.
  16. गुड मार्कशीट के लिए हैप्‍पी माइंड
  17. परीक्षा जीवन-मरण का सवाल नहीं है.
  18. परीक्षा जीवन की कसौटी नहीं है.
  19. विफलता से घबराना नहीं चाहिए.
  20. परीक्षा को सही संदर्भों में देखना जरूरी है. हमारे सामने,हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्रेरक उदाहरण हैं.
  21. अधिकार के साथ कर्तव्‍य पर भी ध्‍यान दें.
  22. जीवन को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिस्‍पर्धा काम नहीं आती है.जीवन को आगे बढ़ाने के लिए अनुस्‍पर्धा काम आती है.
  23. प्रतिस्‍पर्धा में पराजय, हताशा, निराशा और ईर्ष्या को जन्म देती है, लेकिन अनुस्‍पर्धा आत्मंथन, आत्मचिंतन का कारण बनती है.
  24. खुद के साथ मुकाबला करें, दूसरों के साथ नहीं. पीएम ने इस संदर्भ में क्रिकेट लीजेंड सचिन तेंदुलकर का उदाहरण भी दिया.
  25. अभिभावक अपेक्षा ज्‍यादा करते हैं. बच्‍चों से अपेक्षा कम करें, ठीक रहेगा.
  26. नकल आपको बुरा बनाती है, इसलिए नकल न करें.
  27. मैं अभिभावकों से इतना ही कहना चाहूंगा- तीन बातों पर हम बल दें. स्वीकारना, सिखाना, समय देना.
  28. नकल जीवन को विफल बनाने के रास्‍ते की तरफ घसीटकर ले जाती है.
  29. स्वीकृति समस्याओं के समाधान का रास्ता खोलती है. अपेक्षाएं राह कठिन कर देती हैं.
  30. कभी-कभी मुझे लगता है कि अभिभावकों की जो अपेक्षाएं होती हैं, उम्मीदें होती हैं, वो बच्चे के स्‍कूल बैग से भी ज़्यादा भारी हो जाती हैं.
  31. मैं अभिभावकों से कहना चाहूंगा कि परीक्षा के दिनों में बच्चों को हंसी-ख़ुशी का भी माहौल दें. आप देखिए, वातावरण बदल जाएगा.
  32. स्वीकृति समस्याओं के समाधान का रास्ता खोलती है. अपेक्षाएं राह कठिन कर देती हैं.
  33. सर्वांगीण विकास करना है, तो किताबों के बाहर भी एक जिंदगी होती है और वो बहुत विशाल होती है.
  34. हर कसौटी से पार उतरने के लिए कसौटी को उत्सव बना दीजिए. फिर कभी कसौटी, कसौटी ही नहीं रहेगी. इस मंत्र को लेकर आगे बढ़ें.
  35. अपने संकल्प को याद करते हुए, अपने पर विश्वास रखते हुए, परीक्षा के लिए जाइए, मेरी बहुत शुभकामनाएं हैं.
  36. अपने संकल्प को याद करते हुए, अपने पर विश्वास रखते हुए, परीक्षा के लिए जाइए, मेरी बहुत शुभकामनाएं हैं.
  37. पीएम ने भारतीय तटरक्षक बल के अधिकारियों और सैनिकों ने देश के प्रति उनकी सेवा के लिए धन्‍यवाद दिया.
  38. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं दीं.

दरअसल, चुनाव आयोग ने आज प्रसारित होने वाले पीएम मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम को इजाज़त दे दी थी. चुनाव आयोग ने आदर्श आचार संहिता का सख़्ती से पालन करने का निर्देश देते हुए प्रोग्राम को हरी झंडी दी.

Gyan Dairy

उल्‍लेखनीय है 8 मार्च को 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के आख़िरी चरण का मतदान हैं. आदर्श आचार संहिता लागू होने की वजह से कार्यक्रम के प्रसारण से पहले सरकार की तरफ़ से चुनाव आयोग की इजाज़त मांगी गई थी.

Share