सिंघु बॉर्डर पर भारी हंगामा, स्थानीय लोगों और किसानों में हिंसक झड़प

नई दिल्ली। जब पूरे देश की नजर गाजीपुर बॉर्डर पर थी, तब दिल्ली और हरियाणा से सटी सिंघु बॉर्डर पर भारी हंगामा हो गया। यहां स्थानीय लोग प्रदर्शनकारी किसानों के विरोध में नारेबाजी कर रहे थे, तभी दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प शुरू हो गई। दोनों तरफ से पत्थर बरसने लगे तो पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। इस दौरान एक शख्स गंभीर रूप से घायल हो गया। एक थाने के एसएचओ के हाथ में तलवार लगी है। करीब 30 आधे घंटे के बाद स्थिति काबू हो पाई। वहीं दिल्ली से सटी यूपी की गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी है। अंतर यह है कि अब तक जो किसान आंदोलन राजनीति से दूर रहा, वहां अब राजनेताओं का ताता लगा है। सुबह आरएलडी प्रमुख जयंत चैधरी पहुंचे। भले ही वे भारतीय किसान युनियन के मंच पर नहीं गए, लेकिन समर्थन पूरा दिया। वहीं आम आदमी पार्टी के नेता भी पहुंचे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पानी का टेंकर लेकर पहुंचे। इसके बाद सत्येंद्र जैन भी पहुंचे। इससे पहले बीती शाम से यहां भारी गहमागहमी हुई। यूपी सरकार से मिले आदेश के बाद आला अफसर धरनास्थल खाली करवाना पहुंचे थे, लेकिन घंटों की भारी जद्दोजहद के बाद आखिरकार खाली हाथ लौट आए। इस दौरान भारतीय किसान यूनियन के राकेश सिंह टिकैत ने खूब नौटंकी की। कभी धमकी दी तो कभी आंसू बहाए। बहरहाल, शुक्रवार दिनभर भी हंगामे के आसार हैं, क्योंकि रात में सुरक्षा बलों के हटने के बाद से मौके पर किसानों की संख्या बढ़ गई। भारी संख्या में किसान गाजीपुर बॉर्डर पहुंच चुके हैं।

Gyan Dairy
Share