मौसम विभाग ने फिर दी चेतावनी, इन राज्यों में आयेगा तूफान और हो सकती है भारी ​बारिश

एजेंसी: देश में इस समय ठंड का मौसम चल रहा है, उत्तर भारत में बीते दिनो ठिठुरन बढ़ी तो लगा जैसे कड़ाके की ठंड होगी लेकिन फिर धूप निकलने लगी तो दिन में तापमान में गिरावट आ गयी लेकिन अब पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी की वजह से एकबार फिर से ठंड बढ़ने के आसार हैं। वहीं हाल ही में तूफान निवार दक्षिण भारत के कई राज्‍यों से गुजरा है। हालांकि इसने ज्‍यादा तबाही नहीं मचाई है, लेकिन मौसम विभाग ने एक नई चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि चक्रवात निवार के दक्षिणी राज्य में गिरने के एक सप्ताह से भी कम समय में तमिलनाडु में एक अन्‍य तूफान तबाही मचा सकता है।

मौसम विभाग ने कहा कि चक्रवात 2 दिसंबर को श्रीलंका के तट को पार करेगा, जिसके कारण तमिलनाडु और केरल में भारी बारिश होगी। मौसम विभाग ने तमिलनाडु और केरल के दक्षिणी क्षेत्रों के लिए भीषण तूफान को देखते हुए रेड अलर्ट जारी किया है और कहा है कि इन क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी वर्षा होने की उम्मीद है।

बंगाल की खाड़ी में एक अच्छी तरह से चिह्नित कम दबाव क्षेत्र बन रहा है। मौसम विभाग ने कहा, “अगले 24 घंटों के दौरान एक गहरे अवसाद के अधिक तीव्र होने की संभावना है। जिससे चक्रवाती तूफान के तेज होने की संभावना है।” आईएमडी ने कहा कि पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर जाने और 2 दिसंबर की शाम को श्रीलंका तट को पार करने की बहुत संभावना है।

आईएमडी के साइक्लोन वार्निंग डिवीजन ने कहा, “इसके बाद 3 दिसंबर की सुबह लगभग पश्चिम की ओर बढ़ने और कोमोरिन क्षेत्र में उभरने की बहुत संभावना है।”

मौसम ब्यूरो ने कहा, ”हवा की गति के साथ आमतौर पर मौसम धीरे-धीरे 55-65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ेगा और 1 दिसंबर की रात से दक्षिण-पूर्व और बंगाल के दक्षिण-पश्चिम खाड़ी से सटे 75 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ता जाएगा। 70-80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से यह पश्चिम बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिम में और साथ में लंका तट से गुजरेगा। 65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 45-55 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाएं आने वाले 24 घंटों के लिए 2 दिसंबर के पूर्व से कोमोरिन क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी और तमिलनाडु-केरल के तटों पर होने की संभावना है।”

Gyan Dairy

मौसम प्रणाली के कारण समुद्र में ऊंची लहर उठने की आशंका है, जिसको देखते हुए मछुआरों को 1 दिसंबर की रात से दक्षिण पूर्व और आस-पास के दक्षिण-पश्चिम की खाड़ी में नहीं जाने की सलाह दी है। आईएमडी ने कहा कि समुद्र में रहने वालों को 30 नवंबर तक तट पर लौटने की सलाह दी गई है।

पिछले सप्ताह, “बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान” निवार ने तमिलनाडु को प्रभावित किया था। चक्रवात निवार, जिसने 26 नवंबर को भूस्खलन किया, भारी बारिश हुई और तमिलनाडु और पुदुचेरी के कई हिस्सों में बाढ़ आ गई लेकिन इससे बड़े पैमाने पर जान-माल की क्षति नहीं हुई।

 

Share