UA-128663252-1

कोरोना मरीजों को स्वस्थ करने को आयुष मंत्रालय ने जारी किया प्रोटोकाल

नई दिल्ली। कोरोना मरीजों को स्वस्थ करने और रोग प्र​तिरोधक क्षमता को दुरूस्त करने के लिए आयुष मंत्रालय ने नया प्रोटोकॉल जारी किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने मंगलवार को बताया कि नए प्रोटोकॉल में उन विशेष दवाओं के नामों की जानकारी भी दी गई है, जिनसे मरीजों को फायदा हो। इनमें आयुष-64 को सबसे ज्यादा कारगर बताया गया है। आयुष विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के सभी मरीजों को एलोपैथी अस्पतालों में भर्ती किया जा रहा है। यहां एलोपैथी के डॉक्टर आयुष दवाओं को मरीजों को देने से परहेज रख रहे हैं। यही कारण है कि अच्छे प्रोटोकॉल तय होने के बाद भी इनका लाभ सभी मरीजों को नहीं मिल पा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि इनका लाभ सभी मरीजों को मिले, इसके लिए नियमों में कुछ बदलाव करने की आवश्यकता है। आयुष मंत्रालय की तरफ से जारी प्रोटोकॉल के मुताबिक कोरोना संक्रमण की दृष्टि से संवेदनशील एरिया में रहने वाले लोगों को संक्रमण से बचने के लिए रोजाना अश्वगंधा का 1-3 ग्राम पाउडर या 500 एमजी एक्सट्रैक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके अलावा गर्म पानी या दूध के साथ प्रतिदिन 10 ग्राम च्यवनप्राश का उपयोग करना चाहिए।

कोरोना के लक्षणहीन ऐसे मरीजों के लिए आयुष-64 नाम की दवा दिए जाने की सलाह भी दी गई है। मरीजों के लिए योग की विधियों को भी सुझाया गया है। इनकी अवधि 45 मिनट, 30 मिनट के सेशन के साथ-साथ शाम को 15 मिनट के अलग सेशन रखने का सुझाव दिया गया है। इन योग मुद्राओं में विभिन्न आसन, कपालभाति, प्राणायाम, श्वसन क्रिया और अन्य मुद्राएं शामिल हैं। इसका उपयोग प्रशिक्षित योग शिक्षक की निगरानी में ही करना चाहिए।
आयुष मंत्रालय के मुताबिक दिन में एक बार एक ग्लास दूध में एक चुटकी हल्दी डालकर उबालकर पीएं। साथ ही आयुर्वेदिक काढ़ा पीना भी संक्रमण रोकने में मददगार होता है। लोगों को केवल ताजे, साफ और सुपाच्य भोजन का इस्तेमाल करना चाहिए। इसमें उचित मात्रा में फल, सब्जियों की मात्रा अवश्य रखनी चाहिए।

Gyan Dairy
Share