मोदी सरकार ने 24 घंटे में बदला फैसला, अब छोटी बचत योजनाओं पर पुरानी दरों से मिलेगा ब्याज

नई दिल्ली। केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने कल छोटी बचतों पर ब्याज दरें घटाई थी। इस पर लोगों की जबरदस्त प्रतिक्रिया को देखते हुए सरकार ने 24 घंटे में ही अपना निर्णय वापस ले लिया। अब सभी छोटी बचतों पर पुरानी यानी 2020-21 की दरें लागू होंगी। केन्द्र सरकार ने बचत खातों, पीपीएफ, टर्म डिपॉजिट, आरडी से लेकर बुजुर्गों के लिए बचत योजनाओं की ब्याज दरों में कटौती कर दी थी। नई दरें 1 अप्रैल से 30 जून 2021 तक प्रभावी होनी थी।


हालांकि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्विट करके बताया कि 2020-21 की बीती तिमाही में जो दरें थी, वहीं दरें अब लागू होंगी। जो ऑर्डर कल पास किये गये थे, उन्हें बदल दिया गया है। बचत खातों में जमा राशि पर वार्षिक ब्याज को 4 फीसदी से घटाकर 3.5 फीसदी कर दिया था। पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) पर अब तक 7.1 फीसदी वार्षिक ब्याज को घटाकर 6.4 फीसदी कर दिया था। एक साल के लिए जमा राशि पर तिमाही ब्याज दर को 5.5 फीसदी से घटाकर 4.4 फीसदी किया गया था। बुजुर्गों को बचत योजनाओं पर अब 7.4 फीसदी की जगह केवल 6.5 फीसदी तिमाही ब्याज देने की घोषणा की गई थी।

Share