मुंबई: अलीबाग जेल के COVID-19 केंद्र में बीती अर्नब गोस्वामी की पहली रात

मुंबई। रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ और देश के नामचीन पत्रकार अर्नब गोस्वामी को अलीबाग जेल के COVID-19 केंद्र के रूप में निर्दिष्ट स्कूल में रात बितानी पड़ी। महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग की एक अदालत ने बुधवार को गोस्वामी सहित तीन आरोपियों को 2018 में आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पुलिस ने गोस्वामी की हिरासत 14 दिनों के लिए मांगी थी, लेकिन अदालत ने कहा कि हिरासत में पूछताछ की आवश्यकता नहीं है।

इसके बाद बुधवार रात को अर्नब गोस्वामी को शहर के एक सरकारी अस्पताल में चिकित्सा परीक्षण के लिए ले जाया गया था। चिकित्सा परीक्षण के बाद, उन्हें अलीबाग नगर परिषद स्कूल में ले जाया गया, जो कि अलीबाग जेल के COVID-19 केंद्र के रूप में नामित है और उन्होंने वहीं रात बिताई।

बता दें कि रायगढ़ पुलिस की टीम ने बुधवार सुबह मुंबई के लोअर परेल स्थित घर से अर्नब गोस्वामी (47) को पकड़ा था। पुलिस द्वारा उन्हें पुलिस वैन में धकेलते हुए देखा गया। अर्नब के वकील का आरोप है कि पुलिस ने अर्नब के साथ मारपीट की थी। इसके अलावा मुंबई पुलिस ने गोस्वामी, उनकी पत्नी, बेटे और दो अन्य के खिलाफ ड्यूटी में एक पुलिस अधिकारी को रोकने, मारपीट करने, मौखिक रूप से गाली देने और डराने के लिए एक एफआईआर दर्ज की है।

Gyan Dairy

ये है पूरा मामला
रिपब्लिक टीवी द्वारा बकाया भुगतान न करने पर आर्किटेक्ट-इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और नाइक की मां की आत्महत्या के संबंध में अर्नब गोस्वामी और दो अन्य लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) और 34 (सामान्य इरादे) के तहत मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में अन्य दो गिरफ्तार आरोपी फिरोज मोहम्मद शेख और नितेश सारदा को भी बुधवार को अलीबाग अदालत में पेश किया गया और 18 नवंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

Share