देश के बड़े कॉलेज की लड़कियों ने बताई सच्चाई, शारीरिक संबंध बनाने का डालते हैं दबाव

राष्ट्रीय स्तर की बड़ी संस्थान नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट ऑफ यूनिवर्सिटी (NLIU) में छात्रों से बीच मैदान में पोर्न एक्टर की नकल करने के मामले में रोज नए खुलासे हो रहे हैं। कालेज की ही अब जूनियर छात्राओं ने भी हिम्मत दिखाते हुए इस शर्मनाक रैगिंग कांड का सच बयां किया है। लड़कियों का आरोप है कि रोज नशे में सीनियर्स उनके साथ शारीरिक संबंध बनाने की डिमांड करते थे। इधर, कालेज प्रबंधन शिकायत को शुरू से झूठा बता रहा है।

कॉलेज की लड़कियों ने सीनियर्स पर यह भी आरोप लगाए हैं कि वे इंट्रोडक्शन के नाम पर सभी को बुलाते हैं और एक लाइन में खड़े होकर पोर्न एक्टर्स जैसी नकल करने को कहते हैं। एक्टिंग नहीं करने पर शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना तक करते थे। सभी लड़कियां इन सीनियर्स के खौफ में हैं।

एक जूनियर छात्रा ने एंटी रैगिंग हेल्प लाइन में भी इसकी शिकायत की है। इसमें आरोप लगाया है कि एक सीनियर ने नशे में धुत होकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाने की डिमांड की। इसके अलावा कई छात्राओं का भी आरोप है कि यह जगह पूरी नर्क बन गई है।

लड़कियों ने बताई सीनियर्स की हरकतें…

Gyan Dairy
  • सबके सामने अश्लील फिल्में देखने को मजबूर करते थे।
  • छात्राओं का आरोप है कि वे उनके धर्म का मजाक भी उड़ाते हैं।
  • सबके सामने अश्लील फिल्में देखने को मजबूर करते थे।
  • लड़कियों का यह भी आरोप है कि सीनियर्स पेड़ों से लिपटकर अश्लील हरकतें करने को मजबूर करते थे।
  • जूनियर्स को एक-दूसरे के शरीर की बोली लगाने के लिए दबाव बनाया जाता था।
  • खुद को अश्लील तरह की गालियां देने को भी कहा जाता था।
  • गुलामों की तरह होता था बर्ताव।
  • रैगिंग के हर पार्ट में सेक्सुअल एक्टिविटी शामिल रहती थी।

एंटी रैगिंग हेल्पलाइन में शिकायत के बाद यह मामला उजागर हुआ है। इस शिकायत के बाद प्रॉक्टोरियल बोर्ड इसकी जांच कर रहा है। प्रॉक्टर डॉ. राजीव खरे का कहना है कि मामला गंभीर है। ऐसे में सावधानीपूर्वक जांच की जा रही है। हालांकि यूनिवर्सिटी के बड़े अधिकारी कहते हैं कि शिकायत पूरी तरह सही नहीं है।

लड़कियों के आरोप के बाद संस्थान के सेकंड ईयर के 14 छात्रों के नाम सामने आए हैं, जो जूनियर छात्राओं की इस अजीबोगरीब तरीके से रैगिंग लेते थे।

शिकायत मिलने के बाद पुलिस भी इस मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने बताया कि जांच पूरी होने के बाद ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Share