एनसीपी के दिग्गज नेता दिलीप पाटिल होंगे महाराष्ट्र के नए गृृह मंत्री, एक बार कर चुके हैं इंकार

मुंबई। एनसीपी के दिग्गज नेता और महाराष्ट्र विधानसभा के पूर्व स्पीकर दिलीप वलसे पाटिल महाराष्ट्र के अगले गृह मंत्री हो सकते हैं। एंटीलिया केस के बाद आईपीएस अफसर परमबीर सिंह द्वारा 100 करोड़ रुपये की वसूली के आरोप लगाने के बाद विवादों से घिरे अनिल देशमुख ने गृहमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है। उनकी जगह दिलीप पाटिल को अगला गृहमंत्री बनाया जा सकता है।

एनसीपी नेता दिलीप वलसे पाटिल पुणे ग्रामीण विधानसभा सीट से विधायक हैं। दिलीप वलसे पाटिल को साफ छवि वाला नेता माना जाता है। दिलीप पाटिल पहले भी कई बार महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और विधानसभा के स्पीकर रह चुके हैं। पाटिल को अभी गृहमंत्री बनाने की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। वहीं बताया जा रहा है कि विकास अघाड़ी सरकार के गठन के दौरान भी पाटिल को गृह मंत्री बनने का ऑफर दिया गया था। हालांकि उस समय स्वास्थ्य कारणों के चलते उन्होंने इंकार कर दिया था।

बता दें कि एंटीलिया के बाहर मिली संदिग्ध कार से विस्फोटक बरामद होने के मामले में मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह को हटा ​दिया गया था। इस केस में असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाझे को एनआईए ने गिरफ्तार किया है। पद से हटाए जाने के बाद आईपीएस अफसर परमबीर सिंह ने आरोप लगाया कि सचिन वाझे को अनिल देशमुख ने मुंबई से हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली का टारगेट दिया था। सीएम उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में परमबीर सिंह ने यह आरोप लगाया था। इस पत्र के बाद से ही अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग विपक्ष की ओर से की जा रही थी।

Gyan Dairy

इसके अलावा परमबीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट और बॉम्बे हाई कोर्ट का रुख भी किया था। हालांकि उनकी अर्जी पर कोई आदेश जारी नहीं हुआ, लेकिन सोमवार को वकील जयश्री पाटिल की अर्जी पर कोर्ट ने सीबीआई को देशमुख के खिलाफ प्रारंभिक जांच करने का आदेश दिया है। अदालत का कहना है कि 15 दिनों में सीबीआई रिपोर्ट देगी और उसके आधार पर यह फैसला लिया जाएगा कि देशमुख के खिलाफ केस दर्ज किया जाए या फिर नहीं।

Share