पठानकोट एयर बेस हमले में मसूद अज़हर को बनाया जा सकता है आरोपी

साल 2016 का अंत होने जा रहा है और इस साल की शुरुआत में देश को दहलाने वाले पठानकोट हमले पर पहली चार्जशीट दाखिल होने जा रही है. ऐसी खबरें हैं कि मोहाली की कोर्ट में दाखिल होने वाली इस चार्जशीट में जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर और उसके भाई रऊफ असगर को मुख्य आरोपी बनाया गया है.

भारत एनआईए के आरोपपत्र का उपयोग इस साल दो जनवरी को हुए पठानकोट आतंकी हमले के सिलसिले में मसूद अजहर की भूमिका को उजागर करने के लिए विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर करेगा.

चार्जशीट में हमला करने आए चारों हमलावरों के नाम और उनसे जुड़े वो सबूत रखे जाएंगे जो कि जांच एजेंसियों ने हासिल किए हैं. इसके अलावा इस हमले को अंजाम देने में जैश ए मोहम्मद की भूमिका का ज़िक्र होगा कि कैसे वो भारत में आंतकी गतिविधियां बढ़ रहा है.

जैश और उसके प्रमुख मसूद अजहर के खिलाफ कूटनीतिक अभियान शुरू करना इसलिए भी जरूरी हो गया क्योंकि चीन ने अजहर और उसके संगठन के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र में प्रतिबंध लगाने के भारत के प्रयासों को बाधित किया.

Gyan Dairy

एनआईए के अनुसार हमले के दो दिन बाद मारे गये आतंकवादियों की पहचान नासिर हुसैन, हाफिज अबू बाकर, उमर फारूक तथा अब्दुल कयूम के तौर पर की गयी और वे क्रमश: पाकिस्तान के वेहारी (पंजाब), गुजरांवाला (पंजाब), संघार (सिंध) और सुक्कुर (सिंध) के थे.

पठानकोट की घटना के तत्काल बाद रऊफ ने एक वीडियो संदेश जारी कर आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली थी और अपने भाई अजहर को महिमामंडित किया था जिसे 1999 में इंडियन एयरलाइन्स के विमान आईसी-814 के यात्रियों के बदले छोड़ा गया था.

गृह मंत्रालय ने गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत एनआईए को अजहर, उसके भाई और हमले के बाद मारे गये चार आतंकवादियों के दो आकाओं- काशिफ जान तथा शईद लतीफ के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल करने की स्वीकृति दे दी थी.

Share