निकिता हत्याकांड: आरोपी तौसीफ को फांसी की सजा दिला सकते हैं ये साक्ष्य, जानें अहम बातें

नई दिल्ली। हरियाणा की छात्रा निकिता तोमर हत्याकांड में एसआईटी ने तहकीकात के बाद अपनी चार्जशीट तैयार कर ली है। आज यानी शुक्रवार को इसे अदालत में दाखिल कर दिया जाएगा। चार्जशीट में घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज और मौके पर मौजूद निकिता की सहेली का बयान पुलिस के लिए सबसे अहम सबूत है।

एसआईटी के सदस्य अनिल कुमार, सब-इंस्पेक्टर ब्रह्मप्रकाश सहित पूरी टीम गुरुवार दोपहर बाद चार्जशीट को तैयार करके न्यायिक परिसर स्थित जिला न्यायवादी कार्यालय पहुंच गई थी। अदालत में दाखिल करने से पहले जिला न्यायवादी चार्जशीट की छानबीन करते हैं। इस दौरान कोई कमी मिलती है तो वह जांच अधिकारी को चार्जशीट की कमी को पूरा करने का वक्त देते हैं।

इस वारदात में चार्जशीट में अपहरण में विफल होने पर हत्या करने का सीसीटीवी फुटेज अहम सबूत है। वहीं घटना के वक्त मौके पर मौजूद मृतक की सहेली अहम चश्मदीद है। वहीं घटनास्थल से कुछ कदमों की दूरी पर ही छात्रा के परिजन भी मौजूद थे। चश्मदीदों के बयान के साथ-साथ वैज्ञानिक सबूत भी होंगे, जिनसे आरोपियों के खिलाफ मामला साबित करने में आसानी रहेगी। सूत्रों का कहना है कि चार्जशीट करीब 600 पन्नों की हो सकती है। वहीं इसमें 57 से 60 गवाह हो सकते हैं।

Gyan Dairy

बता दें कि 26 अक्टूबर को बल्लभगढ़ में अग्रवाल कॉलेज के सामने निकिता तोमर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वह कॉलेज से अपनी सहेली के साथ परीक्षा देकर बाहर निकली थी। निकिता की हत्या करने से पहले सोहना निवासी तौशीफ और उसके साथी रेहान ने उसे अपनी कार में अगवा करने का प्रयास किया था। जब वह अपहरण में कामयाब नहीं हो सके तो आरोपी तौशीफ खान ने निकिता की गोली मारकर हत्या कर दी। इस जघन्य हत्याकांड के खिलाफ निकिता को इंसाफ दिलाने के लिए धरने-प्रदर्शन हो रहे हैं। वहीं निकिता के घर हर रोज दूर-दूर से शोक व्यक्त करने पहुंच रहे हैं। मृतक के परिजनों ने आरोपियों को फांसी की सजा की मांग की है।

Share