ऑक्सफोर्ड ने ‘आत्मनिर्भरता’ को चुना हिन्दी वर्ड ऑफ द ईयर, जानें वजह

नई दिल्ली। ‘आत्मनिर्भरता’ को साल का हिंदी शब्द घोषित किया गया है। ‘ऑक्सफोर्ड लैंग्विजेज’ ने ‘आत्मनिर्भरता’ शब्द को ऑक्सफोर्ड हिंदी वर्ड ऑफ द ईयर 2020 चुना है। ऑक्सफोर्ड ने माना है कि आत्मनिर्भर भारत शब्द भारतीयों की दिन-प्रतिदिन की उपलब्धियों को दर्शाता है। खास तौर पर वे भारतीय जिन्होंने कोरोना महामारी के खतरे से निपटने के लिए लगातार संघर्ष किया। इस शब्द का चयन ‘ऑक्सफोर्ड लैंग्विजेज’ के भाषा विशेषज्ञों की समिति ने किया है। इस समिति में भाषा विशेषज्ञ कृतिका अग्रवाल, पूनम निगम सहाय और इमोगन फॉक्सेल शामिल थे।

बता दें कि ऑक्सफोर्ड हिन्दी वर्ड ऑफ द ईयर वह शब्द होता है जिसमें बीते वर्ष के भाव, मनोदशा की झलक दिखती हो। इसके अलावा उस शब्द में सांस्कृतिक महत्व की स्थायी क्षमता भी विद्यमान रहे। ऑक्सफोर्ड लैंग्विजेज ने बाकायदा बयान जारी करके कहा कि कोरोना महामारी के शुरुआती महीनों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पैकेज की घोषणा की थी। उस समय पीएम ने देश, अर्थव्यवस्था, समाज और व्यक्तिगत तौर पर भी आत्मनिर्भर होने की बात कही थी।

ऑक्सफोर्ड लैंग्विजेज ने कहा कि पीएम मोदी के संबोधन के बाद हिंदी भाषियों में ‘आत्मनिर्भरता’ शब्द के इस्तेमाल में काफी इजाफा हुआ। इसके साथ ही देश के लोगों के निजी और सार्वजनिक जीवन में भी इसका व्यापक असर हुआ। भारत में कोरोना की वैक्सीन के निर्माण के बाद ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान को और भी मजबूती मिली। इसके बाद बायोटेक्नोलॉजी विभाग ने गणतंत्र दिवस परेड के दौरान अपनी झांकी में ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान के तहत वैक्सीन निर्माण की झलक भी दिखलाई। ।

Gyan Dairy

बता दें कि ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी टीम अपने फेसबुक पेज के जरिए साल के सर्वश्रेष्ठ हिंदी शब्द के चयन के लिए हजारों आवेदन मांगती है। इसके बाद भाषा के विशेषज्ञों के सलाहाकार पैनल की मदद से शब्द अंतिम चयन पर मुहर लगती है।

Share