राज्यसभा : बहस के दौरान कांग्रेस ने पूछा, भीड़ की हिंसा पर कानून क्यों नहीं

मायावती के इस्तीफे की घटना के बाद आज संसद शुरू होते ही हंगामा शुरू हो गया. लोकसभा में विपक्ष लगातार नारेबाजी कर रहा है, जिसके चलते कार्यवाही को 12 बजे के लिए स्थगित कर दिया गया था. उस समय पीएम नरेंद्र मोदी भी वहीं मौजूद थे. उधर, राज्यसभा में भी हंगामा जारी है. विपक्ष ने यहां किसानों की आत्महत्या का मुद्दा उठाया.  दिग्विजय सिंह ने कहा कि सरकार किसानों की आत्महत्या पर मौन है. शरद यादव ने भी सरकार से इस मुद्दे पर बहस की मांग की.

सत्र शुरू होने से पहले बीजेपी संसदीय दल की बैठक हुई. इसमें सुषमा स्वराज ने पीएम मोदी की विदेश यात्रा की तारीफ की. उन्होंने कहा कि पीएम ने जो यात्राएं की वह ऐतिहासिक थीं.

राज्‍यसभा की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस समेत विपक्ष किसानों की खुदकुशी के मामले को उठाना चाह रहा था. कांग्रेस ने कहा कि किसानों को मुआवजे के बदले में गोलियां दी जा रही हैं. इस पर हंगामा हो गया. दिग्विजय सिंह ने कहा कि सरकार किसानों की आत्महत्या पर चुप है. उन्होंने सरकार से इस मुद्दे पर बहस की मांग की. इसके साथ ही विपक्षी नेता अली अनवर ने दलितों के उत्‍पीड़न का मुद्दा उठाया. इस बीच सत्‍ता पक्ष ने विपक्ष से विपक्ष से सदन को सुचारू ढंग से चलाने की अपील की है.

दरअसल, मंगलवार को यूपी के सहारनपुर में दलित विरोधी हिंसा को लेकर अपनी बात जल्द खत्म करने को कहे जाने से नाराज बसपा प्रमुख मायावती ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने इस्तीफा राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी को सौंप दिया है.

Gyan Dairy

मायावती ने कहा, मैं शोषितों, मजदूरों, किसानों और खासकर दलितों के उत्‍पीड़न की बात सदन में रखना चाहती थी. सहारनपुर के शब्‍बीरपुर गांव में जो दलित उत्‍पीड़न हुआ है, मैं उसकी बात उठाना चाहती थी, लेकिन सत्ता पक्ष के सभी लोग एक साथ खड़े हो गए और मुझे बोलने का मौका नहीं दिया गया. बसपा प्रमुख ने कहा, मैं दलित समाज से आती हूं और जब मैं अपने समाज की बात नहीं रख सकती हूं, तो मेरे यहां होने का क्‍या लाभ है. राज्यसभा सचिवालय के सूत्रों ने बताया कि मायावती का इस्तीफा स्वीकार करने का निर्णय सभापति करेंगे. नियम के अनुसार त्यागपत्र संक्षिप्त होना चाहिए और इसमें कारणों का उल्लेख नहीं किया जाना चाहिए.

वहीं, बीजेपी ने राज्यसभा से इस्तीफा देने पर मायावती को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनका यह कदम ‘ड्रामा’ है, जिसका मकसद भावुकता के जरिये ‘भ्रम’ पैदा करना है. नई दिल्ली में बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव ने कहा कि लोग अब मायावती से गुमराह नहीं होने वाले हैं.

भूपेंद्र यादव ने कहा कि मायावती जनाधार खो चुकी हैं और राज्यसभा में उनका छह वर्षों का कार्यकाल वैसे भी संसद के अगले सत्र में खत्म होना था. उन्होंने संकेतों में कहा कि मायावती ने ‘हताशा’ में यह कदम उठाया.

Share