टिड्डी दल के खौफ से परेशान हुए पायलट, DGCA ने जारी किए ये निर्देश

नई दिल्ली। टिड्डी दलों के खौफ से किसान ही नहीं विमान उड़ानें वाले पायलट की परेशान हो गए हैं। इसके चलते उड्डयन नियामक डीजीसीए ने पायलटों को उड़ान भरते समय और उतरते समय अतिरिक्त सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। साथ ही इसके लिए एक एडवाइजरी भी जारी की है, जिसमें टिड्डी दलों की जानकारी मिलने पर उनके समूह के बीच से उड़ान नहीं भरने का आदेश दिया गया है। ऐसा करने वाले पायलटों की लॉग बुक में इसे गलती के तौर पर दर्ज किए जाने और विमान की जांच इंजीनियरों से कराने के भी निर्देश दिए गए हैं।

बता दें कि देश में टिड्डी दलों का पिछले 26 सालों में यह सबसे जबरदस्त हमला है। फसलों और हरियाली को खा जाने वाले ये कीट राजस्थान के रास्ते घुसने के बाद पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश तक फैल चुके हैं। नागरिक उड्डयन महानिदेशक (डीजीसीए) ने इसके चलते सभी एयरलाइंस को एक सर्कुलर जारी किया है। डीजीसीए ने कहा, हालांकि अकेली टिड्डी बेहद छोटे आकार की होती है, लेकिन बड़ी संख्या में वे विंडशील्ड से टकराकर पायलट के आगे देखने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। यह स्थिति विमान के उतरने, उड़ने और पार्किंग-बे में जाने के दौरान गंभीर चिंता का मुद्दा है। डीजीसीए ने एयरपोर्ट पर टिड्डी दलों की मौजूदगी की स्थिति में एयर ट्रैफिक कंट्रोलरों को इसकी सूचना सभी आने और जाने वाले विमानों के साथ साझा करने का निर्देश दिया है। पायलटों को भी विमान उड़ाते समय टिड्डी दल दिखाई देते ही अलर्ट जारी करने को कहा गया है।

Gyan Dairy

डीजीसीए का कहना है कि टिड्डी दलों से रात की उड़ानों में विमान को खतरा पहुंचने की संभावना बेहद कम होती है, क्योंकि रात को वे अधिकतर निष्क्रिय हो जाते हैं। लेकिन डीजीसीए ने इस दौरान एयरपोर्ट पर पार्किंग में खड़े विमानों को टिड्डी दलों से खतरा होने की बात कही है। इसी कारण ग्राउंड हैंडलिग एजेंसियों को विमान के सभी एयर इनलेट और प्रॉब्स को कवर करके रखने को कहा गया है।

Share