JNU कैंपस में PM मोदी बोले- राष्ट्रहित के विषयों में, देश के साथ नजर आनी चाहिए विचारधारा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी गुरुवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति का वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अनावरण किया। कार्यक्रम में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक भी उपस्थित थे। वामपंथी गढ़ कहे जाने वाले जेएनयू में इस कार्यक्रम को लेकर विरोध प्रदर्शन भी हो रहे हैं। कई छात्र संगठनों ने जेएनयू परिसर में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति लगाने का विरोध करते किया।

कार्यक्रम में पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज हर कोई अपनी विचारधारा पर गर्व करता है। यह स्वाभाविक भी है लेकिन, हमारी विचारधारा राष्ट्रहित के विषयों में, राष्ट्र के साथ नजर आनी चाहिए, राष्ट्र के खिलाफ नहीं।

पीएम मोदी ने कहा कि मैं जेएनयू प्रशासन, सभी शिक्षकों और विद्यार्थियों को इस महत्वपूर्ण अवसर पर बहुत बहुत बधाई देता हूं। मेरी कामना है कि जेएनयू में लगी स्वामीजी की यह प्रतिमा, सभी को प्रेरित करे, ऊर्जा से भरे। यह प्रतिमा वो साहस दे, करेज दे, जिसे स्वामी विवेकानंद प्रत्येक व्यक्ति में देखना चाहते थे। यह प्रतिमा वो करुणाभाव सिखाए जो स्वामी जी के दर्शन का मुख्य आधार है।

Gyan Dairy

स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अनावरण करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अतीत में हमने दुनिया को क्या दिया, यह याद रखना और यह बताना हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाता है। इसी आत्मविश्वास के बल पर हमें भविष्य पर काम करना है। भारत 21वीं सदी की दुनिया में भारत क्या योगदान देगा, यह हम सभी का दायित्व है।”

इससे पहले, प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि स्वामी विवेकानंद के सिद्धांत और संदेश आज भी देश के युवाओं को राह दिखाते हैं और भारत को गर्व है कि यहां पैदा हुई उनकी जैसी महान शख्सियत आज भी दुनिया भर के करोड़ों लोगों को प्रेरित करती है।

Share