blog

पीएम मोदी मुख्यमंत्रियों से बोले- लॉकडाउन का दूसरा सप्ताह ज्यादा चुनौतीपूर्ण

पीएम मोदी मुख्यमंत्रियों से बोले- लॉकडाउन का दूसरा सप्ताह ज्यादा चुनौतीपूर्ण
Spread the love

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि लॉकडाउन से कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने में काफी हद तक सफलता मिली है। कुछ राज्यों ने प्रभावशाली ढंग से लॉकडाउन को लागू किया है लेकिन अभी खतरा टला नहीं है। इस संक्रमण को पूरी तरह से नियंत्रित करने के लिए हम सबको और अधिक मेहनत करनी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का दूसरा सप्ताह आज से शुरू हो रहा है।

पीएम नरेन्द्र मोदी गुरुवार को लॉकडाउन का एक सप्ताह पूरा होने पर देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों के प्रमुखों से वीडियो कांफ्रेंसिंग पर बात कर रहे थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना की रोकथाम के सम्बन्ध में कई महत्वपूर्ण सुझाव हैं, जिनका सभी को अनुपालन सुनिश्चित करना होगा। उन्होंने कहा कि अगले कुछ सप्ताह तक कोरोना की रोकथाम, कोरोना टेस्टिंग, कोरोना संदिग्धों का आइसोलेशन/क्वॉरन्टीन और कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीज के इलाज के सम्बन्ध में आवश्यक प्रशिक्षण पर ध्यान देना आवश्यक होगा। इसके अलावा, दवा, उपकरण इत्यादि की निर्बाध सप्लाई भी सुनिश्चित करनी होगी।

पीएम ने कहा कि सभी राज्य अपने यहां अलग कोरोना हॉस्पिटल स्थापित करें और कोरोना इलाज में लगने वाली टीम को अलग रखें। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि आने वाले दिनों में डॉक्टरों की कमी न हो। उन्होंने आयुष डॉक्टरों , पैरामेडिकल स्टाफ , एनसीसी कैडेटों, एनएसएस के वॉलेन्टियर्स तथा अन्य आवश्यक स्टाफ को भी प्रशिक्षण देने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ नागरिको ं और दिव्यांगजनों की मदद में ये लोग प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं। साथ ही सभी राज्य इम्युनिटी इम्पूव करने क े लिए गाइडलाइन जारी करते हुए जनता को इसकी व्यापक जानकारी दें।

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए सभी जनपदों में डिस्ट्रिक्ट सर्विलान्स ऑफिसर्स की तैनाती की जाए। उन्होंने जिले की अधिकृत टीम से ही डेटा कलेक्शन करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोरोना से निपटने के लिए गरीबों के खातों में अन्तरित धनराशि की निकासी के लिए बैंकों में अचानक भीड़ न लगे। उन्होंने कहा कि इस समय पूरे देश मे ं फसलें तैयार हैं। इनकी कटाई के लिए किसानों को छूट दी जा रही है, लेकिन यह सुनिश्चित किया जाए कि इसमें सोशल डिस्टेंसिंग का खयाल रखा जाए। केन्द्रीय आयोग ने कोविड-19 से लडऩे के लिए 11 हजार करोड़ रुपये की धनराशि रिलीज की है। उन्होंने राज्यों से अपने-अपने सुझाव भेजने का भी अनुरोध किया।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *