PM ने राज्यसभा में पढ़ी राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की कविता, अवसर तेरे लिए खड़ा है,फिर भी तू चुपचाप पड़ा है

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी सोमवार को कोरोना के वैश्विक संकट पर चर्चा के दौरान संसद के उच्च सदन राज्यसभा राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की कविता की पंक्तियां पढ़कर अपनी बात पूरी की। पीएम ने कविता पढ़ी कि जो हैं- अवसर तेरे लिए खड़ा है, फिर भी तू चुपचाप पड़ा है। तेरा कर्मक्षेत्र बड़ा है, पल पल है अनमोल। अरे भारत! उठ, आंखें खोल..! पीएम मोदी ने आगे कहा कि आज के समय इसे ऐसे कहते कि- अवसर तेरे लिए खड़ा है, तू आत्मविश्वास से भरा पड़ा है, हर बाधा हर बंदिश को तोड़, अरे भारत आत्मनिर्भरता के पथ पर दौड़। राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की जो कविता पीएम मोदी ने राज्यसभा में पढ़ी वो इस प्रकार है-

PM ने राज्यसभा में पढ़ी राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की कविता, अवसर तेरे लिए खड़ा है,फिर भी तू चुपचाप पड़ा है

अरे भारत ! उठ, आँखें खोल,
उड़कर यंत्रों से, खगोल में घूम रहा भूगोल!

अवसर तेरे लिए खड़ा है,
फिर भी तू चुपचाप पड़ा है।
तेरा कर्मक्षेत्र बड़ा है,
पल पल है अनमोल।
अरे भारत! उठ, आँखें खोल॥

Gyan Dairy

बहुत हुआ अब क्या होना है,
रहा सहा भी क्या खोना है?
तेरी मिट्टी में सोना है,
तू अपने को तोल।
अरे भारत! उठ, आँखें खोल॥
दिखला कर भी अपनी माया,
अब तक जो न जगत ने पाया;
देकर वही भाव मन भाया,
जीवन की जय बोल।
अरे भारत! उठ, आँखें खोल॥

तेरी ऐसी वसुन्धरा है-
जिस पर स्वयं स्वर्ग उतरा है।
अब भी भावुक भाव भरा है,
उठे कर्म-कल्लोल।
अरे भारत! उठ, आँखें खोल॥

Share