पेट्रोल और रसोई गैस के बाद CNG-PNG के दाम बढ़ाने की तैयारी, जानें वजह

नई दिल्ली। देश में महंगाई की मार चरम पर पहुंच गई है। पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के दाम पहले से ही आसमान पर हैं। अब सीएनजी और पीएनजी के दाम बढ़ने की सुगबुगाहट तेज हो गई है। बताया जा रहा है कि आगामी अक्टूबर माह में सीएनजी और पीएनजी के दाम 10-12 प्रतिशत तक बढ़ सकते हैं। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार द्वारा निर्धारित गैस के दाम करीब 76 प्रतिशत बढ़ने वाले हैं। ऐसे में सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में भी इजाफा हो सकता है।

सरकार गैस अधिशेष वाले देशों की दरों का इस्तेमाल करती है। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) जैसी कंपनियों को नामांकन के आधार पर दिए गए क्षेत्रों के लिए प्राकृतिक गैस की कीमतों की सरकार प्रत्येक छह माह में समीक्षा करती है। अगली समीक्षा एक अक्टूबर को होनी है।

Gyan Dairy

ब्रोकरेज कंपनी ने कहा कि एक अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च, 2022 तक एपीएम या प्रशासित दर बढ़कर 3.15 डॉलर प्रति इकाई (एमएमटीटीयू) हो जाएगी। यह अभी 1.79 डॉलर प्रति इकाई है। इसके अलावा गहरे पानी वाले क्षेत्रों मसलन….रिलायंस इंडस्ट्रीज और बीपी पीएलसी के केजी-डी6 क्षेत्र से गैस की दर 7.4 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू हो जाएगी। बता दें कि प्राकृतिक गैस एक कच्चा माल है जिसे वाहनों में इस्तेमाल के लिए सीएनजी और रसोई में इस्तेमाल के लिए पीएनजी में बदला जाता है।

Share