राहुल गांधी : विपक्ष की राजनीति की केंद्रीय भूमिका में आते जा रहे हैं

शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन शुक्रवार को कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने गए. पीएम से मुलाकात के दौरान उन्‍हें कर्ज माफी सहित किसानों की मांग और नोटबंदी के कारण हो रही समस्‍याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा. पीएम मोदी ने भी कहा कि इसी तरह की मुलाकात होती रहनी चाहिए. उनकी मुलाकात से विपक्ष के बाकी नेता नाराज हो गए. उन्‍होंने कांग्रेस के अकेले पीएम मोदी से मिलने पर आपत्ति उठाई.

rahul-gandhi_650x400_81481703585

दरअसल पूरे शीतकालीन सत्र के दौरान यदि नजर डाली जाए तो नोटबंदी के मसले पर सरकार को घेरने के मामले में विपक्ष की तरफ से सबसे ज्‍यादा सुर्खियां राहुल गांधी के खाते में ही आई हैं. सरकार की आठ नवंबर की नोटबंदी की घोषणा के बाद राहुल गांधी ही सबसे ज्‍यादा हमलावर रुख अपनाते हुए देखे गए हैं.

राहुल ने इस बीच पीएम मोदी पर सीधे वार भी किए हैं और उन पर निजी भ्रष्‍टाचार का आरोप भी लगाया है. राहुल गांधी ने बुधवार को दावा किया था कि उनके पास पीएम नरेंद्र मोदी से जुड़ी ऐसी जानकारी है जिससे उनके ‘नोटबंदी के फैसले का गुब्‍बारा’ फूट जाएगा, लेकिन उन्‍हें संसद में बोलने नहीं दिया जा रहा. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल ने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के अंदाज़ में पत्रकारों से उनके होंठों की भाषा पढ़ने के लिए कहा, और घोषणा की कि उनके पास ऐसी जानकारी है, जिससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निजी भ्रष्टाचार की पोल खुल जाएगी.

Gyan Dairy

नोटबंदी की घोषणा के बाद वह चाहें राहुल गांधी के बैंक की कतार में लगने का मामला हो या शीतका‍लीन सत्र में नियमित रूप से संसद परिसर में पत्रकारों के समक्ष नोटबंदी के मसले पर पीएम मोदी को घेरने की बात हो, सबसे ज्‍यादा राहुल ही चर्चा में रहे. अब कांग्रेस शिष्‍टमंडल के साथ उनकी पीएम मोदी के साथ मुलाकात के बाद बाकी विपक्षी दलों की नाराजगी यह बता रही है कि वह प्रतिपक्ष की राजनीति की केंद्रीय भूमिका में आते जा रहे हैं. हालांकि नोटबंदी की मुखालफ़त के मामले में शुरुआत में अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी ने शुरुआत में सरकार के खिलाफ मुखर मोर्चा खोला लेकिन बाद में ही राहुल ही इस मुद्दे पर लगातार बोलते हुए दिखे.

राहुल के इस अंदाज ने हालांकि ये साबित कर दिया है कि अब वह राजनीति में अपनी बात को खुलकर कहने की कला को सीख गए हैं. उनमें अब उस तरह की झिझक नहीं दिखती जो तकरीबन 12 साल पहले अपने राजनीति करियर के शुरुआती दिनों में दिखती थी. अब अपने विरोधियों के खिलाफ जमकर बोलते हैं.

Share