नए कृषि कानूनो को लेकर राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, जारी की खेती का खून नाम की पुस्तक

नई दिल्ली: राहुल गांधी लगातार तीन नए कृषि कानूनों पर चल रहे कसान आंदोलन को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर रहते हैँ। मंगलवार को राहुल गांधी ने देश में किसानों की ‘दुर्दशा’ को उजागर करने वाली एक पुस्तिका जारी की। कांग्रेस मुख्यालय में एक प्रेस इवेंट में पुस्तिका का विमोचन किया गया, जिसका नाम खेती का खून तीन काले कानून नाम रखा गया है।

कांग्रेस सांसद ने बताया कि केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों को भारतीय कृषि को नष्ट करने के लिए तैयार किया गया है। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि केंद्र देश में नए कृषि कानूनों की गलत व्याख्या कर रहा है और कहा कि किसानों के जारी आंदोलन के संदर्भ में आज एक त्रासदी सामने आ रही है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि उनकी लड़ाई सिर्फ किसानों के लिए ही नहीं, बल्कि उन युवाओं के लिए भी है, जो देश का भविष्य हैं। उन्‍होंने कहा, “आज देश में एक त्रासदी सामने आ रही है। सरकार इस मुद्दे की अनदेखी करना और देश को गलत समझना चाहती है। मैं अकेले किसानों के बारे में नहीं बोलने जा रहा हूं, क्योंकि यह त्रासदी का एक हिस्सा है। यह युवाओं के लिए महत्वपूर्ण है। यह वर्तमान के बारे में नहीं बल्कि आपके भविष्य के बारे में है।”

राहुल गांधी ने कहा, “मैं किसानों के विरोध प्रदर्शन का समर्थन करता हूं। हर एक व्यक्ति को उनका समर्थन करना चाहिए, क्योंकि वे हमारे लिए लड़ रहे हैं। सिर्फ एक समाधान है सरकार को कृषि कानूनों को वापस लेना होगा।” उन्‍होंने कहा, “आप एपीएमसी और कृषि प्रणाली की वजह से खरीदे जाने वाले चावल, गेहूं (मध्यम वर्ग) खरीदते हैं। यह किसानों पर हमला नहीं है बल्कि मध्यम वर्ग और देश के हर एक नौजवान पर है, जो नौकरी पाने में सक्षम नहीं है।”

Gyan Dairy

कांग्रेस नेता ने सुप्रीम कोर्ट को भी नहीं बख्शा, जिसने कृषि कानूनों पर अस्थायी रोक लगा दी और विचार-विमर्श आयोजित करने के लिए एक पैनल का गठन किया। कांग्रेस नेता ने कहा, “मैं सुप्रीम कोर्ट को लेकर टिप्पणी नहीं करूंगा और भारत सुप्रीम कोर्ट की वास्तविकता को देख रहा है।”

उन्होंने भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा के ट्वीट पर भी प्रतिक्रिया दी और कहा, “किसानों को वास्तविकता पता है। सभी किसान जानते हैं कि राहुल गांधी क्या करते हैं। नड्डा जी भट्टा पारसौल में नहीं थे। मेरे पास एक साफ चरित्र है, मैं डरा नहीं हूं। वे मुझे छू नहीं सकते। वे मुझे गोली मार सकते हैं।”

 

Share