ट्रेनों के लेट होने पर अब अफसरों पर चलेगा ‘प्रभु’ का डंडा

ट्रेनों के देरी से चलने की बढ़ती शिकायतों के बीच रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने संबधित अधिकारियों को आगाह करते हुए कहा है कि वे समय की पाबंदी में सुधार लाएं या कार्रवाई का सामना करें.

इसके साथ ही प्रभु ने उन विसंगितियों पर भी गौर किया है, जिसमें भारतीय रेल की आधिकारिक वेबसाइट नेशनल ट्रेन इनक्वायरी सिस्टम (एनटीईएस) पर उपलब्ध आंकड़ों और ट्रेनों के चलने के वास्तविक समय में अंतर महसूस किया जाता है.

जोनल प्रमुखों से कहा गया है कि रात में 10 बजे से सुबह सात बजे के बीच रात्रिकालीन पाली में एक वरिष्ठ अधिकारी की तत्काल तैनाती की जाए. तैनात अधिकारी स्थिति की निगरानी करेंगे और ट्रेनों के परिचालन में देरी को रोकने के लिए अगर कोई समस्या है तो उसे दूर करेंगे.

xअधिकारियों को लिखे एक पत्र में प्रभु ने समस्याओं को दूर करने के लिए तत्काल सुधारात्मक कदम उठाने को कहा है. एक से लेकर 15 अप्रैल के बीच के समय में ट्रेनों के समय से चलने की दर घटकर 79 प्रतिशत रह गई, जो पिछले साल की समान अवधि में 84 प्रतिशत थी.

Gyan Dairy

पत्र में प्रभु ने ट्रेनों के देर से चलने पर चिंता जताई और अधिकारियों को निर्देश दिया कि तत्काल प्रभाव से वरिष्ठ अधिकारी रात्रिकालीन पाली में करीबी निगरानी करें.

 

Share