राकेश टिकैत ने जारी किया पोस्टर, लिखा- ‘संसद अहंकारी हो जाए तो देश में जनक्रांति निश्चित है’

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में बीते कई माह से दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसान हटने को तैयार नहीं हैं। इस बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों का आंदोलन आगे भी जारी रहेगा। राकेश टिकैत ने मंगलवार को कहा कि ‘सरकार बातचीत करने की इच्छा नहीं दिखा रही नहीं है। लिहाजा हम आगामी 22 जुलाई को संसद भवन के बाहर धरने पर बैठेंगे।


किसान नेता राकेश टिकैत ने ट्वीटब कर कहा कि ‘संसद अगर अहंकारी और अड़ियल हो तो देश में जनक्रांति निश्चित होती है।’ अपने ट्विटर हैंडल से जारी एक पोस्टर में राकेश टिकैत ने लिखा कि किसान 22 जुलाई को संसद भवन के बाहर प्रदर्शन करेंगे। इस पोस्टर में संसद भवन की फोटो लगाई गई है, साथ ही एक ओर गेंहू की बालियां भी दिखाई गई है। उसके नीचे बैकग्राउंड में किसानों का विरोध प्रदर्शन करते हुए फोटो भी लगाया गया है। इसी पोस्टर में प्रदर्शन की तारीख 22 जुलाई लिखी गई है, सबसे नीचे हैशटैग करते हुए किसानों का संसद भवन पर प्रदर्शन लिखा गया है।

बता दें कि संसद का मॉनसून सत्र 19 जुलाई से शुरू हो रहा है। संसद के अंदर भी किसानों के मुद्दों पर विपक्षी सांसदों का हंगामा देखने को मिल सकता है। इससे पहले राकेश टिकैट ने यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर बड़ा और अहम बयान दिया था। एक टेलीविजन चैनल से बातचीत में उन्होंने यूपी में चुनाव लड़ने को लेकर कहा है- ‘हम चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन वोट की चोट देंगे।’ बता दें कि इससे पहले सोमवार को संयुक्त किसान मोर्चा ने भी केंद्र सरकार के खिलाफ मॉनसून सत्र के दौरान मोर्चाबंदी करने का ऐलान किया था।

Share