कम नहीं हो रहीं रॉबर्ट वाड्रा की मुश्किलें, बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग ले रहा बयान

नई दिल्ली। आयकर विभाग की एक टीम बेनामी संपत्ति मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा के कार्यालय पहुंची। पूर्वी दिल्ली के सुखदेव विहार स्थित रॉबर्ट वाड्रा के कार्यालय पहुंची आयकर विभाग की टीम उनका बयान दर्ज कर रही है।

बताया जा रहा है कि आयकर विभाग ने रॉबर्ट वाड्रा को समन भेजकर बयान के लिए बुलाया था। हालांकि उन्होंने कोरोना संक्रमण का हवाला देते हुए आयकर आफिस जाने में असमर्थता जताई थी। रॉबर्ट वाड्रा की लंदन में लगभग 12 मिलियन पाउंड की संपत्ति से जुड़े मामले में पहले से ही जांच चल रही है। यह संपत्ति कथित तौर पर उनकी है।

Gyan Dairy

सितंबर 2015 में, एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग का मामला भी दर्ज किया था जिसमें आरोप लगाया गया था कि वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी ने राजस्थान के बीकानेर में गरीब ग्रामीणों के पुनर्वास वाली जमीन का अधिग्रहण किया था। यह आरोप लगाया गया कि वाड्रा ने 69.55 हेक्टेयर भूमि को सस्ती दर पर खरीदा और अवैध लेनदेन के माध्यम से एलेग्नेरी फिनलीज को 5.15 करोड़ रुपये में बेच दिया।

सितंबर 2018 में, गुड़गांव के भूमि सौदों में कथित अनियमितता के लिए उनके और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ पुलिस में एक मामला दर्ज किया गया था। आरोप लगाया गया है कि स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी ने 2008 में शिकोहपुर गांव में 3.5 एकड़ जमीन डीएलएफ को मौजूदा दर से बहुत अधिक दर पर बेची थी।

Share