RSS के प्रचारक थे छेड़छाड़ के आरोपी पूर्व राज्यपाल षणमुगनाथन

मेघालय के राजभवन को लेडीज क्लब बनाने वाले पूर्व राज्यपाल वी षणमुगनाथन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक भी रह चुके हैं। षणमुगनाथन के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाए जाने के बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उनका इस्तीफा कबूल भी कर लिया।

वी षणमुगनाथन मद्रास यूनिवर्सिटी के गोल्ड मेडलिस्ट छात्र रहे हैं। षणमुगनाथन आरएसएस के प्रचारक भी रहे चुके हैं। षणमुगनाथन के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाकर कर्मचारियों ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बताया कि कई युवतियां अपने मन मुताबिक राजभवन आती जाती थीं। कई युवतियों की डायरेक्ट पहुंच षणमुगनाथन के बेडरूम तक भी थी।

Gyan Dairy

राजभवन में पीआरओ की नौकरी के लिए आवेदन देने वाली एक अभ्यर्थी ने आरोप लगाया कि राज्यपाल ने उसे बाहों में भरकर चूम लिया था। षणमुगनाथन महिला अभ्यर्थियों को खुद से फोन से करते थे। कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि षणमुगनाथन राजभवन को लेडीज क्लब बना दिया था।

Share