सुप्रीम कोर्ट : बच्चों को तंबाकू या ड्रग्स के प्रभाव से बचाने के लिए बने नेशनल ऐक्शन प्लान

सुप्रीम कोर्ट ने देशभर में बच्चों को तंबाकू या ड्रग्स के प्रभाव से बचाने के लिए नेशनल ऐक्शन प्लान बनाने का केंद्र सरकार को आदेश दिया है.

supremecourt_650x425_042216105845

सुप्रीम कोर्ट ने ये आदेश बचपन बचाओ आंदोलन की याचिका पर दिया है जिसमें कहा गया है कि देश भर में करोड़ों बच्चे नशे का शिकार हैं और सरकार इसे लेकर कोई कदम नहीं उठा रही है. केंद्र सरकार के ही मंत्रालय के नेशनल फ़ैमिली हेल्थ सर्वे की 2005-06 की रिपोर्ट के मुताबिक़ देश भर में 15 से 18 साल की उम्र के क़रीब 12.5 करोड़ बच्चों में 4 करोड़ बच्चे तंबाकू, शराब या किसी ड्रग्स की आदत लगी हुई है.

Gyan Dairy

कोर्ट ने कहा है कि ये प्‍लान 6 महीने में बन जाए और चार महीने में देश के सभी स्कूलों में सर्वे हो कि बच्चों में ड्रग्स को रोकने के लिए क्या कदम उठाए जाएं. इसके बाद नेशनल डाटा बेस बनाया जाए और सभी स्कूलों में ड्रग्स की जानकारी को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए.

सर्वे के मुताबिक़ 28.6 फ़ीसदी लड़के जबकि 5 फ़ीसदी लड़कियां किसी न किसी नशे के शिकार हैं. बच्चों में नशे की पहुंच को रोकने के लिये दाख़िल जनहित याचिका पर कोर्ट ने नेशनल पॉलिसी ऑफ़ ड्रग्स डिमांड रिडक्शन पॉलिसी 6 महीने के भीतर बनाने को कहा है.

Share