सिपरी की रिपोर्ट में खुलासा: 33 फीसदी कम हुआ भारत का हथियारों का आयात, रूस पर सबसे ज्यादा असर

नई दिल्ली। आत्मनिर्भर भारत की तरफ देश का कदम बढ़ रहा है। देश में अब हथियारों के आयात में गिरावट दर्ज की गयी है। ये गिरावट करीब 33 फीसदी की है। वहीं, आयत में कमी होने के कारण इसका असर रूस पर ज्यादा पड़ा है क्योंकि भारत सबसे ज्यादा वहां से हथियारों का आयात करता था।

स्टॉकहोम के रक्षा थिंक टैंक सिपरी की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 2011-15 और 2016-20 के बीच हथियारों के आयात में 33 फीसदी की कमी आई है और इसका सबसे ज्यादा असर रूस पर पड़ा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की जटिल खरीद प्रक्रिया और रूसी हथियारों पर निर्भरता कम करने की कोशिशों के तहत भारतीय हथियार आयात में कमी आई है।

बता दें कि, पिछले वर्षों में भारत ने घरेलू रक्षा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए काफी प्रयास किए हैं। राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि घरेलू रक्षा उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 2018-19 और 2020-21 के बीच करीब 1.99 लाख करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई।

Gyan Dairy

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिपरी) की रिपोर्ट में कहा गया, ‘भारत में 2011-15 और 2016-20 के बीच हथियारों के आयात में 33 फीसदी की कमी आई। रूस सर्वाधिक प्रभावित आपूर्तिकर्ता रहा, हालांकि अमेरिका से भी भारत में हथियारों के आयात में 46 फीसदी की कमी आई।’

 

Share