सीता नवमी आज, व्रत और पूजन से मिलता है सभी तीर्थों का फल

नई दिल्ली। जगत जननी माता सीता का प्राकट्य त्रेतायुग में वैशाख शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ था। तब से इस तिथि को सीता नवमी के रूप में मनाया जा रहा है। इस बार सीता नवमी 2 मई यानी आज है। 1 मई को प्रात: 8.26 मिनट में नवमी तिथि प्रारंभ होगी जो दो मई को सुबह 6.37 मिनट तक रहेगी। सीता जी मिथिला नरेश विदेह राज जनक की पुत्री थीं। एक बार मिथिला में सूखा पड़ा तो बहुत बड़े यज्ञ करवाए गए। इसके बाद जब महाराा जनक हल चलाने लगे तो उन्हें जमीन में से एक संदूक मिला, जिसमें एक सुंदर कन्या थी। राजा के कोई संतान नहीं थी तो राजा ने उस बच्ची को अपनी पुत्री के रुप में पाला और सीता का नाम दिया।

पुराणों में माता सीता को साक्षात लक्ष्मी का अवतार माना जाता है। भगवान शिव का धनुष तोड़कर विष्णुजी के अवतार श्रीराम ने स्वयंवर में सीता का वरण किया था। इसके बाद उन्होंने पतिव्रत धर्म निभाया और वनवास में भी अपने पति के साथ गईं। सीता नवमी पर उनकी पूजा विशेष फलदायी होती है। इस दिन मंदिरों में विशेष कीर्तन होते हैं। वहीं इस बार कोरोना वाययरस लॉकडाउन के कारण लोग घर पर रहकर ही माता सीता नवमी मनाएंगे और व्रत रखेंगे।

Gyan Dairy

सीता नवमी पर बहुत से लोग व्रत रखते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन व्रत रखने से सभी तीर्थों के दर्शन का फल मिलता है। ऐसी भी मान्यता है कि इस दिन जो लोग व्रत रखते हैं उन्हें सभी सुख मिलते हैं और उनके दुख कट जाते हैं। इस दिन माता जानकी के साथ भगवान राम की भी पूजा की जाती है।

Share