UA-128663252-1

कृषि बिल के खिलाफ विपक्ष द्वारा किए जा रहे प्रदर्शन पर भड़कीं स्मृति ईरानी, जाने क्या कहा?

हाल ही में मोदी सरकार ने संसद से कृषि संबंधी तीन बिल पास करवाए हैं जिसको लेकर लगातार विपक्ष हंगामा कर रहा है, जहां एक तरफ हरियाणा-पंजाब समेत देश के कई राज्यों के किसान आंदोलन कर रहे हैं तो वहीं विपक्षी दलों ने इसका सदन के अंदर से लेकर बाहर तक पुरजोर विरोध किया है। इस बीच, कांग्रेस सांसद और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने इस बिल को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से बुधवार को शाम को मुलाकात की।

इधर, विपक्ष के भारी विरोध के बाद केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सवाल किया है कि आखिर कृषि संबंधी बिलों पर इतना हो-हल्ला क्यों मचा है? उन्होंने कहा, “ये बिल किसानों को अपने उत्पाद को स्वतंत्र रूप से व्यापार करने की अनुमति देता है। किसानों की जमीन को सुरक्षित करने के साथ ही यह सुनिश्चित करता है कि व्यापारियों को अधिकतम तीन दिनों के अंदर किसानों को भुगतान करना होगा। फिर, क्यों विपक्ष इन बिलों का विरोध कर रहे हैं?”

Gyan Dairy

स्मृति ईरानी ने कहा, कांग्रेस ने 10 वर्षों में स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू नहीं किया। मोदी सरकार ने रिपोर्ट को लागू किया और करीब ढाई गुणा ज्यादा न्यूनतम समर्थन मूल्या दिया। किसान निधि योजना के अंतर्गत 10 करोड़ से ज्यादा किसानों के खातों में 90 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का ट्रांसफर किया गया है।

Share