श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का बयान, विहिप और आरएसएस धन संग्रह के लिए अधिकृत, छत्तीसगढ़ सरकार ने पूछा था सवाल

रांची। भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में भव्य मंदिर की तैयारियां जोरों पर हैं। इस बीच श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने साफ कहा है कि विहिप, राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ व उससे जुड़े संगठनों को छोड़कर अन्य कोई संस्था श्रीराम मंदिर निर्माण में निधि संग्रह के लिए अधिकृत नहीं है। ट्रस्ट ने साफ कहा है कि श्रीराम मंदिर निर्माण में भारतवर्ष के सभी रामभक्तों का सहयोग मांगा जाएगा।

इस बीच विश्‍व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने छत्तीसगढ़ की भूपेष बघेल सरकार से कहा है कि अनावश्यक रूप से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए चंदा जुटाने में लगे कार्यकर्ताओं को परेशान न किया जाए। उन्होंने कहा कि देश के राष्ट्रपति और छत्तीसगढ़ की राज्यपाल ने भी श्रीराममंदिर निमार्ण के लिए राशि दी है। इससे पहले छत्तीसगढ़ सरकार ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को पत्र लिखकर यह पूछा है कि निधि संग्रह अभियान के लिए किसे अधिकृत किया है।

विहिप प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा कि छत्‍तीसगढ़ सरकार पता है कि ट्रस्ट ने किसे धन संग्रह के लिए अधिकृत किया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को आगे आकर यह कहना चाहिए कि मैं निधि समर्पण करना चाहता हूं, राशि ले जाएं। लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार यह पूछ रही है कि किसे अधिकृत किया है।

Gyan Dairy
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का बयान, विहिप और आरएसएस धन संग्रह के लिए अधिकृत 

वहीं ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा कि 1989 में देश के तीन लाख गांवों में राम शिला पूजन हुआ था। उन रामभक्तों की भागीदारी मंदिर निर्माण में सुनिश्चित करने के लिए तय किया गया कि श्रीरामजन्म भूमि आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली विहिप, आरएसएस व उनके 40 अनुषांगिक संगठनों को निधि संग्रह के लिए अधिकृत किया जाए। इसमें बाकायदा ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय व कोषाध्यक्ष गोविंददेव गिरी के हस्ताक्षर से पत्र जारी किया गया है। धन संग्रह का यह अभियान 15 जनवरी से शुरू होकर 27 फरवरी तक चलेगा।

बता दें कि अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए पूरे देश में निधि संग्रह का अभियान चल रहा है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, विहिप, संघ के अनुषांगिक संगठन के लाखों कार्यकर्ता पूरे देश में इस अभियान पर काम कर रहे हैं। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने इसके लिए विश्व हिंदू परिषद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को पत्र लिखकर निधि संग्रह के लिए अधिकृत किया है।

Share