संसद : सुषमा का बयान, बिना सबूत के लापता 39 भारतीयों काे मृत मान लेना पाप

इराक में लापता 39 भारतीयों के मुद्दे पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अाज लोकसभा में कहा कि ये बहुत गंभीर मामला है और पूरा देश इस मामले को सुनना चाहता है। सुषमा कहा कि उन्हाेंने 6 देशों के विदेश मंत्रियों से बात की है और लापता भारतीयाें के मारे जाने का काेई सबूत नहीं है। बिना सबूत के मोसुल में 39 लोगों को मारा जाना मान लेना अपराध है। उन्हाेंने कहा, मैं आज किसी को मरा हुआ घोषित कर दूं कल को उनमें से कोई जिंदा आ गया तो इसलिए ये पाप मैं अपने सिर नहीं लेना चाहती। जिनको लगता है कि वो मारे गए हैं तो वो परिवार को कह दें, अगर कोई जिंदा निकल आया तो उसकी जिम्मेदारी वो लेंगे।

दरअसल कुछ दिन पहले सुषमा ने कहा था कि इराक में लापता 39 भारतीय मोसुल की जेल में कैद हैं। हालांकि कई  रिपोर्टों में कहा गया कि वे उस जैल में नहीं हैं। इस पर विपक्ष ने सरकार पर गुमराह करने का आरोप लगाया। इस पृष्‍ठभूमि में जब वह बयान देने के लिए सदन में खड़ी हुईं तो विपक्षी कांग्रेस ने 6 कांग्रेसी सदस्‍यों के 5 दिनों के निलंबन के मुद्दे पर हंगामा शुरू कर दिया। वे लोकसभा अध्‍यक्ष सुमित्रा महाजन की कुर्सी तक पहुंच गए। विपक्ष के लगातार हंगामे के बीच स्पीकर ने लोकसभा काे स्‍थगित कर दिया।

Gyan Dairy
Share