निलंबित पुलिस अफसर सचिन वाझे ने एनआईए को पत्र लिखकर कहा- अनिल देशमुख ने दिया था 100 करोड़ का टारगेट, एक और मंत्री पर लगाए आरोप

मुंबई। देश के सबसे रईस कारोबारी मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फोटक लदी कार खड़ी करने और मनसुख हिरेन की हत्या के आरोप में गिरफ्तार मुंबई पुलिस निलंबित अधिकारी सचिन वाझे ने पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह के आरोपों को सही ठहराया है। सचिन वाझे ने एनआईए को लिखे पत्र में स्वीकार किया है कि महाराष्ट्र के तत्कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख और ट्रांसपोर्ट मंत्री अनिल परब ने उन्हें उगाही करने को कहा था। इससे पहले मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने भी आरोप लगाया था कि अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को हर महीने 100 करोड़ रुपए उगाही का टारगेट दिया था।

सूत्रों के मुताबिक निलंबित असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाझे ने एनआईए को हाथ से लिखे पत्र में दावा किया कि एनसीपी चीफ शरद पवार मुंबई पुलिस में उसकी बहाली के विरोध में थे। अनिल देशमुख ने वाझे से कहा था कि यदि वह 2 करोड़ रुपए लाकर दे तो वह शरद पवार को मना लेंगे। सचिन वाझे ने दावा किया कि महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब ने भी उसे बीएमसी से जुड़े 50 ठेकेदारों से 2-2 करोड़ रुपए उगाही करने का लक्ष्य दिया था।

Gyan Dairy
Share