बांग्लादेशी नदी में तैरकर असम पहुंचा, बोला- मुझे कोरोना हुआ है, मेरा इलाज करवा दो

नई दिल्ली। भारत-बांग्लादेश सीमा पर असम के करीमगंज जिले में रविवार को उस वक्त कई गावों में हड़कंप मच गया जब ये खबर फैली कि एक बांग्लादेशी शख्स कोविड-19 का इलाज कराने के लिए नदी पार कर भारत आया है। इस पूरी घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंचे बीएसएफ के जवानों ने युवक को हिरासत में ले लिया है। बाद में बांग्लादेशी सेना को बुलाकर युवक को सौंप दिया गया।

करीमगंज से 53 किलोमीटर पूर्व सिल्चर में बीएसएफ के प्रवक्ता डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल जेसी नायक ने कहा, “बांग्लादेशी युवक दोनों देशों की सीमा पर बहती कुशियारा नदी को पार कर रविवार की सुबह साढ़े सात बजे भारतीय सीमा में प्रवेश किया। जब गांव वालों ने भारत की तरफ उसे देखा तो वहीं पर उसे रोककर हमें सूचित किया।”

यह घटना करीमगंज टाउन से करीब 4 किलोमीटर दूर मुबारकपुर के पास हुई है, जहां पर दोनों देशों की सीमा खुली हुई है। नायक ने कहा, उस व्यक्ति को बुखार था और वह अच्छा महसूस नहीं कर रहा था। वह ये बता रहा था कि वे कोविड-19 पॉजिटिव है और भारत में इलाज के लिए नदी को पार किया है।

Gyan Dairy

बीएसएफ अथॉरिटीज ने सीमा पर बॉर्डर गार्ड्स बांग्देश को सूचित किया। बांग्लादेशी अथॉरिटीज के लोग दो नाव से भारत की तरफ आए और करीब सुबह 9 बजे उसे वापस लेकर गए। नायक ने कहा, हमें यह पता नहीं था कि वह कोविड-19 पॉजिटिव है या नहीं लेकिन यह साफ था कि वह ठीक नहीं था। भारतीय पक्ष के गांव वाले कोरोना वायरस के चलते काफी डरे हुए थे। सिर्फ टेस्ट से ही वास्तव में उसकी स्थिति का पता चल पाएगा।

नायक ने आगे बताया कि हालांकि कुशियारा नदी मॉनसून के दौरान बाढ़ से लबालब भरी रही है लेकिन इस समय उसमें पानी कम था वह व्यक्ति जानता था कि बिना ज्यादा कठिनाई के तैर कर उस पार जाना आसान होगा।

Share