तेलंगाना: मालिक की ‘हत्या’ करने वाले मुर्गे को पुलिस ने लिया हिरासत में, जानें पूरा मामला

नई दिल्ली। तेलंगाना पुलिस के लिए एक मुर्गा इन दिनों बड़ा सिरदर्द बन गया है। पुलिस ने हत्या के मामले में आरोपित एक मुर्गे को अपनी कस्टडी में ले रखा है। पुलिस का दावा है कि तेलंगाना के जगतियाल जिले में एक मुर्गे ने गलती से अपने मालिक को मार डाला गया। माना जा रहा है कि पुलिस मुर्गे को कोर्ट में पेश करेगी। हालांकि, पुलिस मुर्गे को गिरफ्तार करने से इंकार कर रही है।

पुलिस के मुताबिक कॉक फाइट (मुर्गों के बीच की लड़ाई) की तैयारी के दौरान मुर्गे के पैर में बंधा चाकू गलती से 45 वर्षीय थानुगुल्ला सतीश की कमर के नीचे कट गया। यह घटना 22 फरवरी को लथुनुर गांव की बताई जा रही है। सतीश अवैध रूप से होने वाली कॉक फाइट के लिए मुर्गा लेकर आया था। इस हादसे में थानुगुल्ला सतीश की मौत हो गई।

मुर्गे की लड़ाई के दौरान ही मुर्गे के पैर में बंधे चाकू से सतीश घायल हो गया। इसके बाद सतीश के शरीर से काफी खून बहने लगा। उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। चूंकि इस राज्य में कॉक फाइट बैन है, इसलिए लोगों के एक समूह ने चोरी-छिपे गांव में येलम्मा मंदिर के पास मुर्गे की लड़ाई का आयोजन किया था।

Gyan Dairy

इस घटना के बाद पुलिस मुर्गे को गोलापल्ली थाने में ले आई, जहां उसे रखा गया है और पुलिस कर्मी उसकी देखभाल कर रहे हैं। उन्होंने इसके लिए भोजन की भी व्यवस्था की। गोलापल्ली थाने के अधिकारी बी जीवन ने स्पष्ट किया कि मुर्गे को न तो गिरफ्तार किया गया है और न ही हिरासत में लिया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने मुर्गे की सुरक्षा की जिम्मेदारी ली है।

Share