कातिलाना हमले के आरोपी को दिल्ली हाईकोर्ट ने दी अनोखी सजा, एक माह करना होगा ये काम

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने कातिलाना हमले के आरोपी 21 साल के एक युवक को अनोखी सजा सुनाई है। दरअसल इस मामले में दोनों पक्षों ने सुलह कर ली थी। इसके बाद युवक ने अपने किए पर पछतावा व्यक्त किया था। हाईकोर्ट ने सजा के तौर पर युवक को अगले एक महीने तक दिल्ली के गुरुद्वारा बंगला साहिब में सामुदायिक सेवा करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद ने शुक्रवार को यह कहते हुए आरोपी मोहम्मद उमैर के खिलाफ दर्ज एफआईआर को खारिज कर दिया कि वह 21 साल का एक युवा है और उसका पूरा जीवन उसके आगे पड़ा है, और यह तथ्य कि दोनों पार्टियों ने समझौता कर लिया है। आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 307 (हत्या के प्रयास) के तहत केस दर्ज किया गया था।

जस्टिस प्रसाद ने आरोपी को 16 मार्च से 16 अप्रैल, 2021 तक गुरुद्वारा बंगला साहिब में एक महीने तक सामुदायिक सेवा करने का निर्देश दिया। एक महीना पूरा होने के बाद, अभियुक्त को आदेश का अनुपालन दिखाने के लिए हाईकोर्ट में गुरुद्वारा बंगला साहिब से मिला एक प्रमाण पत्र दायर करना होगा।

Gyan Dairy

आदेश पारित करते हुए अदालत ने आरोपी पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया और उसे ऐसी गतिविधियों में लिप्त न होने और भविष्य में अपराध से दूर रहने की चेतावनी भी दी। कोर्ट ने कहा कि युवाओं को अपने गुस्से को काबू करना सीखना चाहिए और यह भी ध्यान रखना चाहिए कि वह कानून अपने हाथ में नहीं ले सकते। उन्होंने कहा कि आरोपी पहले ही एक महीना हिरासत में बिता चुका है। उसने अदालत में पछतावा व्यक्त किया है।

Share