भारतीय सेना के हौसले बुलंद, नेवी चीफ करमबीर सिंह बोले चीन से निपटने के लिए हैं तैयार

नई दिल्‍ली: भारत का बीते कई महीनो से सीमा पर चीन के साथ तनाव चल रहा है, लगातार भारतीय सेना चीन को मुहतोड़ जवाब दे रही हैं वहीं केन्द्र सरकार ने भी सेना का मनोबल बढ़ा रखा है। इसी दौरान नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने गुरुवार को कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा और कोविड-19 महामारी के दौरान चीन की स्थिति को बदलने की कोशिशों से सुरक्षा की स्थिति जटिल हो गई। लेकिन भारतीय नेवी हर हरकत का जवाब देने के लिए पूरी तरह से तैयार है। भारतीय नौसेना ने अपने P-8 पोसिडॉन विमान और हेरोन ड्रोन को उत्तरी सीमा पर निगरानी के लिए तैनात किया।

करमबीर सिंह ने 4 दिसंबर को नौसेना दिवस से वार्षिक सम्मेलन में बताया कि समुद्र में वायु शक्ति नौसेना के संचालन का एक अनिवार्य है और भारतीय नौसेना एक तीसरे विमान वाहक को प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि नौसेना, उत्तरी सीमा पर यथास्थिति को बदलने के लिए चीन के प्रयासों से उत्पन्न चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है, जिसने “सुरक्षा स्थिति में जटिलताओं को काफी बढ़ा दिया है”।

उन्होंने कहा कि नौसेना के P-8I समुद्री निगरानी विमान और हेरॉन मानवरहित हवाई वाहन सेना और वायु सेना के अनुरोधों के अनुसार, LAC के लद्दाख सेक्टर पर नजर रखने के लिए उत्तरी ठिकानों पर तैनात किए गए हैं। उन्होंने कहा कि दो MQ-9B सी गार्जियन ड्रोन, जो लगभग 33 घंटे की उड़ान भर सकते हैं, उनको नौसेना की क्षमताओं में अंतर को भरने के लिए अमेरिका से लिया गया है।

चीनी मछली पकड़ने और अनुसंधान पोत क्षेत्रीय जल में काम कर रहे हैं, उनमें से किसी ने भी भारत की समुद्री सीमाओं का उल्लंघन नहीं किया है और चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी के केवल तीन युद्धपोत हिंद महासागर क्षेत्र में अदन की खाड़ी में 2008 से ही मौजूद हैं।

नौसेना दूसरे विमानवाहक पोत स्वदेश निर्मित INS विक्रांत के साथ अगले साल समुद्री परीक्षण शुरू करने के लिए तैयार है। सिंह ने यहां नौसेना की शक्ति के लिए तीसरे वाहक की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि नौसेना तीसरे वाहक के अधिग्रहण को मंजूरी देने के लिए औपचारिक रूप से सरकार से संपर्क करने से पहले तकनीकी जानकारी पर काम कर रही है।

Gyan Dairy

वायु संचालन नौसेना के संचालन के लिए अभिन्न अंग हैं। यहां और अब समुद्र में वायु शक्ति की आवश्यकता है। सिंह ने कहा, भारत को 5-ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने के लिए सरकार की योजनाओं के साथ समुद्र के किनारे पर परियोजना शक्ति को जोड़ना है। उन्‍होंने कहा, “यदि आप 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनना चाहते हैं तो आपको बाहर की ओर जाना होगा। नौसेना नहीं चाहती है कि तट के लिए टेदर किया जाए। उसके लिए विमान वाहक बिल्कुल आवश्यक हैं।”

नौसेना अपने मिग-29 को बदलने के लिए एक मल्टी-रोल कैरियर-आधारित लड़ाकू जेट पर रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) के साथ काम कर रही है। सिंह ने कहा कि यह काम स्वदेश में निर्मित हल्के लड़ाकू विमानों से सीखे गए सबक पर आधारित होगा और नौसेना को उम्मीद है कि 2030 के दशक में गृह-निर्मित वाहक आधारित लड़ाकू विमान सेवा में शामिल होंगे।

उन्होंने कहा कि स्वदेशीकरण नौसेना के युद्धपोतों के अधिग्रहण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और पिछले छह वर्षों में शामिल सभी 24 सतह के जहाजों और पनडुब्बियों को भारत में बनाया गया था, जबकि देश के शिपयार्ड में 41 और जहाजों का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रोजेक्ट 75 आई श्रेणी की पनडुब्बी कार्यक्रम भी पटरी पर है, जिसमें नौसेना के पास छह पनडुब्बियों के निर्माण के लिए विक्रेताओं और साझेदारों की पहचान की है। ड्रोनों हमला के खिलाफ जहाजों की सुरक्षा के लिए स्मैश-2000 राइफलें भी हासिल की जा रही हैं।

Share