पुलवामा दोहराने की थी साजिश, निशाने पर थे सीआरपीएफ के 400 जवान

नई दिल्ली। पुलवामा जिले के राजपोरा इलाके में सुरक्षाबलों की मुस्तैदी से आज यानी कि गुरुवार को एक बड़ी आतंकी वारदात टल गई। इलाके से एक सैंट्रो कार से करीब 40 किलो आईईडी बरामद हुई है। जिसे बम निरोधक दस्ते की मदद से निष्क्रिय किया गया है। वहीं इस घटना के बाद कई अहम तथ्य सामने आए हैं, जो काफी हैरान करने वाले और चिंताजनक हैं। सूत्रों का कहना है कि आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद द्वारा रची गई इस साजिश में सीआरपीएफ के करीब 400 जवान निशाने पर थे।

सूत्रों के मुताबिक करीब 20 वाहनों का सीआरपीएफ का काफिला आज सुबह श्रीनगर से चलकर जम्मू पहुंचना था। इस काफिले में करीब 400 जवान शामिल होते। संदेह जताया जा रहा है कि इसी काफिले को निशाना बनाने के लिए आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ये साजिश रची थी। उधर, सुरक्षाबलों को निशाना बनाए जाने की बात आईजीपी विजय कुमार ने भी स्वीकार की है।

आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने 2019 के पुलवामा हमले को दोहराने की साजिश रची थी। 2019 के आतंकी हमले और आज की नापाक साजिश में काफी समानताएं देखने को मिल रही हैं। हालांकि सुरक्षा एजेंसियों और जवानों की मुस्तैदी के चलते एक बड़ी घटना टल गई है।

Gyan Dairy

वहीं इस मामले को लेकर आईजीपी विजय कुमार ने कहा कि पिछले कई दिनों से इनपुट मिल रहे थे कि आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने कार में आईईडी लगाकर आतंकी वारदात को अंजाम देने की साजिश रची है। इसी को लेकर कल यानी कि बुधवार शाम को पुलवामा पुलिस, सीआरपीएफ और सेना के जवानों ने नाका लगाया था। इस दौरान कार सवार आतंकी नाके के पास पहुंचा। जिसे सुरक्षाबलों ने रुकने का इशारा किया।

इस दौरान कार में सवार आतंकी ने भगाने की कोशिश की और फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद सुरक्षाबलों का शक पुख्ता हो गया। सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकी फरार हो गया। उन्होंने बताया कि कार में करीब 40 किलो आईईडी लगाया गया था।

Share