बिना किसी विदेशी मुख्य अतिथि के मनाया जाएगा गणतंत्र दिवस, ब्रिटेन के पीएम कर चुके हैं इंकार

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच इस बार 72वां गणतंत्र दिवस बिना किसी विदेशी मेहमान के मनाया जाएगा। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के कोरोना के कारण समारोह में न आने के बाद भारत ने किसी विदेशी मेहमान को न्योता न देने का फैसला किया है।

साल 1966 के बाद ये पहला मौका होगा जब गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर कोई विदेशी मेहमान नहीं होगा। इसके साथ ही साल 1952 और 1953 में भी भारतीय गणतंत्र दिवस समारोह में कोई विदेशी प्रतिनिधि शामिल नहीं हुए थे।

सरकार ने यह फैसला इसलिए किया है कि क्योंकि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारत आने में असमर्थता जताई थी। इसके बाद जिस राष्ट्राध्यक्ष को बुलाया जाता उसकी छवि खराब होती। क्योंकि संदेश ये जाता कि बोरिस जॉनसन का स्थान भरने भर के लिए उसे भारत बुलाया गया है। 1950 के बाद ऐसा दो बार हुआ है जब भारत के न्योते को विदेशी मेहमान की तरफ से अस्वीकार करने के बाद दूसरे मेहमान बुलाए गए हों।

Gyan Dairy

 

Share