आतंकवाद के आरोप में बांग्लादेश में तीन हूजी सदस्यों को फांसी

बांग्लादेश में बुधवार को आतंकवाद के आरोप में तीन लोगों को फांसी दे दी गई। ये तीनों हरकतुल जिहाद अल-इस्लामी के मुफ्ती (हूजी) जुड़े थे। अब्दुल हन्नान को उनके दोनों साथियों पर आरोप था कि उन्होंने एक शीर्ष ब्रिटिश राजदूत अनवर चौधरी पर ग्रेनेड से हमला किया था जिसमें तीन लोग मारे गए थे।

बता दें कि अब्दुल हन्नान हूजी में शामिल होने से पहले अफगानिस्तान में सोवियत के खिलाफ लड़ाई में शामिल थे। उन पर कई हमलों का आरोप था। बताया जाता है कि हन्नान 1990 के दशक में हूजी में शामिल हुए थे। हालांकि हन्नान की पत्नी का कहना है उनके बेगुनाह थे।

अपने ऊपर किए गए इस हमले को याद करते हुए अनवर चौधरी बताया, ”बम मेरे पेट पर आ गिरा था। लेकिन तब विस्फोट नहीं हुआ था। मैं डिस्ट्रिक्ट चीफ के पैर के पास जमीन पर गिर गया था। इसके ठीक बाद बम फटा था।

Gyan Dairy

इन तीनों को साल 2014 में सिलहट के सूफी दरगाह पर हमला किया था। इस मामले में अदालत ने सुनवाई करते हुए तीनों को मौत की सजा सुनाई थी। इन दिनों अनवर चौधरी पेरू में ब्रिटेन के राजदूत हैं।

 

Share