टोक्यो ओलंपिक : हॉकी टीम ने जर्मनी को 5-3 से शिकस्त देकर कांस्य पर किया कब्जा, पीएम ने फोन कर दी बधाई

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 41 साल का सूखा खत्म कर दिया है। भारतीय टीम ने जर्मनी को 5-3 से हराकर कांस्य पदक पर कब्जा किया। भारत ने इससे पहले हॉकी में ओलंपिक मेडल 1980 में जीता था। इस लिहाज से हॉकी में भारत का यह 12वां ओलंपिक मेडल है। भारत ने ओलंपिक के इतिहास में हॉकी में आठ गोल्ड, एक सिल्वर और दो कांस्य पदक जीते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फोन करके हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह, कोच ग्राहम रीड और सहायक कोच पीयूष दुबे से बात की।

जर्मनी के साथ कांस्य पदक के मुकाबले में भारत पहले क्वार्टर में 0-1 से पिछड़ गया था। हालांकि इसके बाद टीम इंडिया ने जबरदस्त वापसी की। दूसरे क्वार्टर में स्कोर 3-3 का हो गया था। तीसरे क्वार्टर में भारतीय टीम ने जबर्दस्त अटैकिंग खेल दिखाया और स्कोर 5-3 कर दिया। चौथे क्वार्टर की शुरुआत में ही जर्मनी ने गोल दागकर स्कोर 4-5 कर दिया। श्रीजेश ने एक बार फिर से शानदार प्रदर्शन किया और जर्मनी के गोल के मौकों को नाकाम किया। आखिरी के तीन मिनट में भारत ने एक और पेनाल्टी कॉर्नर जर्मनी को दिया। श्रीजेश और भारतीय डिफेंडर्स ने जर्मनी को इस मौके का फायदा नहीं उठाने दिया।

Gyan Dairy
Share