तुर्की और पाकिस्तान मिलकर कश्मीर में फैलाएंगे दहशत, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

एजेंसी। अपनी नापाक हरकतों के चलते पूरी दुनिया में बदनाम हो चुके पाकिस्तान ने अब अपने पुराने दोस्त तुर्की के साथ मिलकर भारत के खिलाफ नई साजिश रचना शुरू कर दी है। हाल में मिले इंटेलीजेंस इनपुट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान के साथ मिलकर तुर्की अपने लड़ाकों को कश्मीर भेजने की तैयारी कर रहा है।

ग्रीस की पेंटापोस्टाग्मा नामक वेबसाइट पर प्रकाशित हुई खबर में दावा किया गया है कि तुर्की अब भाड़े के लड़ाकों के सैन्य संगठन सादात को अब कश्मीर में दहशत फैलाने के लिए भेजने की साजिश रच रहा है। तुर्की खुद को मध्य एशिया में सबसे ताकतवर देश के रूप में दिखाना चाहता है। इसलिए वह पाकिस्तान के साथ मिलकर कश्मीर में हिंसा फैलाने की साजिश रच रहा है। इससे पहले भी कई बार तुर्की कश्मीर के मसले पर खुलकर पाकिस्तान का साथ दे चुका है।

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दवान इस्लामिक दुनिया में सऊदी अरब के एकाधिकार को चुनौती देकर स्वयं को मुसलमानों का सबसे बड़ा नेता दिखाने की कोशिस कर रहा है। कश्मीर में भाड़े के लड़ाकों को भेजना भी उनकी इसी रणनीति का हिस्सा है। सैन्य संगठन सादात का नेतृत्व एर्दोगन के सैन्य सलाहकार अदनान तनरिवर्दी करता है। जिसने कश्मीर में बेस तैयार करने के लिए कश्मीर में जन्मे सैयद गुलाम नबी फई नाम के आतंकी को नियुक्त किया है।

Gyan Dairy

सैयद गुलाम नबी फई का जन्म जम्मू-कश्मीर के बड़गाम में अप्रैल 1949 में हुआ था। यह कट्टरपंथी संगठन जमात ए इस्लामी का भी सक्रिय सदस्य है। सैयद गुलाम नबी फई ने अमेरिका में कश्मीर के खिलाफ साजिश रचने के लिए अमेरिकी काउंसिल ऑफ कश्मीर की स्थापना की थी। इस संस्था की फंडिंग पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई करती है। इस बात की पुष्टि खुद अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई ने की है। यह संगठन अब तुर्की के सादात और इस्लामिक दुनिया नाम के एक एनजीओ के साथ मिलकर कश्मीर में साजिश रच रहा है।

 

Share