राजस्थान की दो बहनो ने धमकी मिलने के बाद किया था रेप से इन्कार, अब सुनाई आपबीती

राजस्थान के बारां में बीते दिनों दो नाबालिक सगी बहनों के साथ हुए रेप को लेकर देश में काफी हंगामा मचा था, कोटा और जयपुर में हुए रेप के बाद देश भर में प्रदर्शन शुरू हो गये थे। हालांकि पीड़िताओं ने थाने मे मुकदमा तो दर्ज करवाया था लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की थी। लेकिन जब दोनों नाबालिग बहनो के 164 के बयान दर्ज करवाये गये तो दोनो ने अपने साथ दुष्कर्म होने की बात से इनकार कर दिया था।

लेकिन एकबार फिर दोनों सगी नाबालिग पीड़ित बहनों ने अपने परिजनों के साथ मीडिया के सामने आकर न्याय की गुहार लगाई है। पीड़ि​ताओं और उनके परिजनों का आरोप है कि घटना के बाद से ही दोनों बालिकाएं डरी सहमी हुई थी। वहीं परिवार ने पुलिस पर दोनों बच्चियों पर दबाव बनाने का आरोप लगाया है। परिवारजनों के मुताबिक बारां पुलिस के दबाव के कारण 5 व 8 में पढ़ने वाली दोनों सगी बहनों ने 164 के बयान शर्म तथा डर के कारण स्पष्ट घटनाक्रम को नहीं बता सकी थी ।

दोनों नाबालिग बालिकाओं ने दुष्कर्म होने की बात कही है। उनका कहना है कि पहली बार पहली घटना बारां के समीप सुन्दलक रेलवे स्टेशन परिसर की कुछ दूरी पर हुई। कुछ लड़को द्वारा उनके साथ दुष्कर्म किया गया और बाद में जयपुर कोटा ले जाकर वहाँ भी बलात्कार किया गया। पीड़ि​ताओं ने बताया कि पूर्व मूल पक्ष द्वारा एवं ड्यूटी पर तैनात महिला पुलिसकर्मीयों ने 164 के बयान में बोलने के लिए प्रेरित किया। बच्चियों ने बताया कि उन्हें कहा गया की ऐसा नहीं बोलोगी तो जेल जाना पड़ेगा । तुम आरोपियों को मत फंसाओ उसमें ही तुम्हारा भला है नहीं तो तुम ही फंस जाओगी ।

Gyan Dairy

आज जब मीडिया के सामने दोनो पीड़िताओं ने बयान दिया तो एकबार फिर इस केस की चिंगारी भड़क गई है। उन्हाने बताया कि मीडिया के सामने नहीं आने के लिए भी पुलिस ने दबाव बनाया था। पीड़िता के माता-पिता ने कहा कि हमारी बच्चियों के साथ बलात्कार हुआ है इसके बावजूद न्याय नहीं मिल रहा है। बच्चियों ने जो 164 के बयान दिए हैं वह बारां पुलिस के दबाव में व आरोपी पक्ष से धमकाने से बयान दिए हैं कि हम अपनी मर्जी से उनके साथ गए थे वरना तुम्हारे माता पिता को जेल भेज देंगे हमारी बच्चियां नासमझ और डरी हुई होने से उन्होंने ऐसा बयान दिया था ।

वहीं पिता ने आरोप लगाया है कि हमारे घर पर रात दिन पुलिस तैनात रहती थी हमें डराया धमकाया गया व किसी से मीडिया वालों से नहीं मिलने दिया गया। अब मीडिया के माध्यम से पीड़ित दोनों सगी बहनों व परिवार जनों ने आरोपीयों को सजा दिलाने व न्याय की मांग की है।

Share