उन्नाव केस: बबुरहा गांव बना छावनी, ग्रामीणों ने कब्र खोद रही JCB को रोका, परिवार से मिलने पहुंच रहे अखिलेश यादव

उन्नाव। उत्तर प्रदेश का उन्नाव जिला बेटियों से दरिंदगी को लेकर पूरे देश में कुख्यात होता जा रहा है। अब यहां के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में बुधवार की रात तीन नाबालिग दलित लड़कियां खेत में दुपट्टे से बंधी पड़ी मिलीं है। सूचना पर पुलिस तीनों को अस्पताल लेकर पहुंची, जहां चिकित्सकों ने दो लड़कियों को मृत घोषित कर दिया,जबकि रिजेंसी अस्पताल में तीसरी वेंटिलेटर पर जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है।

एहतियातन बबुरहा गांव में नौ थानों की पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। इसके साथ ही 19 दरोगाओं, 70 मुख्य आरक्षी, 30 सिपाहियों की अतिरिक्त तैनाती की गई। बबुरहा गांव में कई लोग धरने पर बैठे हुए हैं। गांव में चर्चा है कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव कभी भी पीड़ितों से मिलने पहुंच सकते हैं। इस सूचना के बाद गांव में पुलिस और सक्रिय हो गई है।

वहीं जिला प्रशासन मृतक किशोरियों के अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहा है। प्रशासन ने कब्र खोदने के लिए जेसीबी मशीन मंगाई गई तो ग्रामीणों और सपा कार्यकर्ताओं ने पुरजोर विरोध किया। उन्होंने कहा कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाएंगी। ग्रामीणों ने कहा कि पीड़ित परिवार को नौकरी, मुआवजा और हत्यारों की तलाश जब तक नहीं होगी वह किशोरियों का शव दफनाने नहीं देंगे।

Gyan Dairy

वहीं इस घटना को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विट किया कि केवल दलित समाज को ही नहीं यूपी सरकार महिला सम्मान व मानवाधिकारों को भी कुचलती जा रही है। लेकिन वे याद रखें कि मैं और पूरी कांग्रेस पार्टी पीड़ितों की आवाज़ बनकर खड़े हैं और उन्हें न्याय दिलाकर ही रहेंगे।

इसके साथ ही कांग्रेस नेता प्रियंका वाड्रा ने फेसबुक पर पोस्ट करके कहा कि उन्नाव की घटना दिल दहला देने वाली है। लड़कियों के परिवार की बात सुनना एवं तीसरी बच्ची को तुरंत अच्छा इलाज मिलना जांच-पड़ताल एवं न्याय की प्रक्रिया के लिए बेहद जरूरी है। खबरों के अनुसार पीड़ित परिवार को नजरबंद कर दिया गया है। यह न्याय के कार्य में बाधा डालने वाला काम है। आखिर परिवार को नजरबंद करके सरकार को क्या हासिल होगा। वहीं, बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने उन्नाव घटना पर कहा- मैं बहुत दुखी हूँ, योगी सरकार दोषियों को दंड पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

Share